जानिए क्या-क्या हैं मुनाफिक (कपटी) की निशानियां।

0
270
Islamic Palace App

मुनाफिक (कपटी) की निशानियां।

अबू हुरैरा रज़ि. से रिवायत है कि नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्ल्म ने फ़रमाया:

“मुनाफिक की तीन निशानियां हैं, जान बात करे तो झूट बोले,

जब वादा करे तो वादा खिलाफी करे और जब उसके पास अमानत रखी जाये तो खयानत करे।”

अब्दुल्लाह बिन उम्र रज़ि, से रिवायत है कि नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्ल्म ने फ़रमाया:

“चार बातें जिसमें होंगी वह तो खालिस (पक्का) मुनाफिक होगा और जिसमें इनमें से कोई एक भी होगी,

उसमें निफाक की एक आदत होगी, यहाँ तक कि वह उसे छोड़ दे,

उसके पास अमानत रखी जाये तो खयानत करे,

जब बात करे तो झूट बोले, जब वादा करे तो दग़ाबाज़ी करे और जब झगड़े तो बेहूदा बकवास करे।

फायदे :

निफाक की दो किस्में हैं, एक निफाक तो ईमान व अक़ीदे का होता है,

जो कुफ्र की बदतरीन क़िस्म है, जिसकी निशानदही सिर्फ वह्य से मुमकिन है,

दूसरा अमली निफाक है, जिसे सीरत और किरदार का निफाक भी कहते हैं।

हदीस का मतलब यह है कि जिस आदमी में निफाक कि निशानियों में से कोई एक निशानी है

तो उसे समझाना चाहिए कि मुझ में मुनाफिकाना आदत है

और जिसमें यह तमाम निशानियां जमां हो, वह सीरत और किरदार में खालिस (पक्का) मुनाफिक है।

(मुख़्तसर सहीह बुखारी, सफ़ा न० 37)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY