एक गुनाह के बारे में : ज़िना करने और नाप तौल में कमी करने की सज़ा

0
40
Ek gunah ke bare mein zina karne or naap taul mein kami karne ki saza
Ek gunah ke bare mein zina karne or naap taul mein kami karne ki saza
Islamic Palace App

Ek gunah ke bare mein zina karne or naap taul mein kami karne ki saza

Ek gunah ke bare mein zina karne or naap taul mein kami karne ki saza

एक गुनाह के बारे में : ज़िना करने और नाप तौल में कमी करने की सज़ा

रसूल्लुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़र्माया : “जिस कौम में ज़िना आम होता है, उस में ताऊन और ऐसी बीमारियां फैल जाती हैं जो पहले नहीं थीं और जो लोग नाप तौल में कमी करते हैं, तो वह लोग कहत साली, परेशानियों और बादशाह के ज़ुल्म के शिकार हो जाते हैं।”

(इब्ने माजा : 4011, अन इब्ने उमर रज़ि.)

(सिर्फ पांच मिनट का मदरसा : सफ़ा न० 732)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY