अल्लाह के 99 खूबसूरत नाम, ज़रूर पढ़ें और शेयर करें

0
1781
Al Asma Ul Husna-99 Beautiful Names of Allah in Hindi
99-names-of-allah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Al Asma Ul Husna-99 Beautiful Names of Allah in Hindi

Surah Al-A'raf
Surah Al-A’raf Ayah 180

अल्लाह तआला का इर्शाद है-

और अल्लाह ही के लिए अच्छे नाम है, सो उनके ज़रिए उसको पुकारो।

(अल अअराफ़ 180)

हज़रत अबु हुरैरह रदियल्लाहो तआला अन्हो से रिवायत है कि रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया

“अल्लाह तआला के 99 नाम है, जिसने उनको याद किया वह जन्नत में दाख़िल होगा।

(बुख़ारी,मुस्लिम)

1 या रहमान ए बेहद रहम करने वाले
2 या रहीम ए बड़े महेरबान
3 या मालिक इ हकीकी बादशाह
4 या कुददुस ए बुराई से पाक ज़ात
5 या सलाम ए बे ऐब ज़ात
6 या मुअमिन ए अमनो ईमान देनेवाले
7 या मुह्यमिन ए निगहबान और हिफाज़त करने वाले
8 या अज़ीज़ ए इज़्ज़त के काबिल
9 या जब्बार ए सबसे ज़बरदस्त
10 या मुतकब्बिर ए बड़ाई और बुज़ुर्गी वाले
11 या खालिक ए पैदा करने वाले
12 या बारीक़ ए जान डालने वाले
13 या मुसव्विर ए सूरत देनेवाले
14 या गफ्फार ए दरगुज़र और पर्दापोसी करने वाले
15 या कहहार ए सबको अपने काबुमे रखने वाले
16 या वह्हाब ए सबकुछ अता  करने वाले
17 या रज़्ज़ाक ए बहोत बड़े रोज़ी देने वाले
18 या फत्ताह ए बोहोत बड़े मुस्किलकुशा
19 या अलीम ए बोहोत बड़े इल्म देने वाले
20 या काबिज़ ए रोज़ी तंग करने वाले
21 या बासित ए रोज़ी फराख करने वाले
22 या खाफिद ए गिराने वाले
23 या राफी ए बलंद करदेने वाले
24 या मोइज़्ज़ ए इज़्ज़त देने वाले
25 या मोजिल ए जिल्लत देनेवाले
26 या समीअ ए सबकुछ सुनने वाले
27 या बसीर ए सबकुछ देखने वाले
28 या हकम ए फ़ैसला देने वाले
29 या अदल ए इन्साफ करने वाले
30 या लतीफ़ ए बड़े लुत्फ़ो करम करने वाले
31 या खबिर ए बाख़बर और आगाह
32 या हलीम ए सबसे बड़े बुज़ुर्ग
33 या अज़ीम ए सबसे शानदार
34 या गफूर ए बोहोत बख्सनेवाले
35 या सकुर ए कदरदान
36 या अली ए बोहोत बलन्द
37 या कबीर इ बोहोत बड़े
38 या हाफिज ए सबके मुहाफ़िज़
39 या मुकित ए सबको पोषने वाले
40 या हसीब ए सबके लिए किफ़ायत करने वाले
41 या जलील ए बोहोत बड़े और बलन्द मर्तबे वाले
42 या करीम ए बोहोत करम करने वाले
43 या रकीब ए बड़े निगेहबान
44 या मुजीब ए दुआए सुनने और कुबूल करने वाले
45 या वासी ए सब समझने वाले
46 या हकिम ए बड़ी हिकमतो वाले
47 या वदूद ए बड़े मुहब्बत करने वाले
48 या मजीद ए बड़े आलीशान
49 या बाइस ए मुर्दोंको ज़िंदा करने वाले
50 या शहीद ए हज़िरो नज़ीर
51 या हक़्क़ ए बारहकको बरक़रार
52 या वकील ए बड़े करसाज़
53 या कवी ए बड़ी ताकतों कुव्वत वाले
54 या मतीन ए सदीद कुव्वत वाले
55 या वली ए मददगार और हिमायती
56 या हामिद ए लायके तारीफ
57 या मुहसी ए अपने इल्म और सुमार में रखने वाले
58 या मुबदी ए पहलीबार पैदा करने वाले
59 या मुइद ए दोबारा पैदा करने वाले
60 या मुहयी ए ज़िन्दगी देने वाले
61 या मुमीत ए मौत देने वाले
62 या हय्य ए हमेशा हमेशा ज़िंदा रहने वाले
63 या कय्यूम ए सबको कायम रखने वाले और सँभालने वाले
64 या वाजिद ए हर चीज़ को पाने वाले
65 या माजिद ए बुज़ुर्गी और बड़ाई वाले
66 या वाहिद ए अकेले
67 या अहद ए एक
68 या समद ए बेनियाज़
69 या कादीर ए कुदरत वाले
70 या मुक्तदीर ए पूरी मुक़्तदर रखने वाले
71 या मुकद्दिम ए पहले और आगे काने वाले
72 या मुअख्खिर ए पीछे और बादमे रखने वाले
73 या अव्वल ए सबसे पहले
74 या आखिर ए सबके बाद
75 या ज़ाहिर ए ज़ाहिर करने वाले
76 या बातिन ए छुपाने वाले
77 या वाली ए हक़ीक़ी मालिक
78 या मुतआली ए सबसे बलन्द ओ बरकत
79 या बर्र ए बड़ा अच्छा सुलूक करने वाले
80 या तव्वाब ए बोहोत ज़्यादा तौबा कुबूल करने वाले
81 या मुन्तक़िम ए बदला लेने वाले
82 या अफुव ए बोहोत ज़्यादा माफ़ करने वाले
83 या रउफ ए बोहोत बड़े महेरबान
84 या मलिकुल मुल्क ए मुल्कों के मालिक
85 या जलजलाली वल्इकराम ए अज़्मतों ज़लाल और इनामों इकराम वाले
86 या मुकसित ए अदलो इंसाफ कायम करने वाले
87 या जामी ए सबको जमा करने वाले
88 या गनी ​ए बेनीयाजो बे परवाह
89 या मुग़नी ​​ए बेनीयाजो​ गनी बनादेने वाले
90 या मानि ए रोकदेने वाले
91 अज़ ज़ार ​ए जरर​ पहोचाने वाले
92 या नाफ़ी ए नफा पहोचाने वाले
93 या नुर ए मुनव्वर करने वाले
94 या हदी ए सीधा रास्ता दीखाने वाले
95 या बदी ए बेमिसाल चिज़ोंको एज़ाद करने वाले
96 या बाकी ए हमेशा हमेशा बाकि रहने वाले
97 या वारिस ए सबके बाद मौजूद रहने वाले
98 या रशीद ए सीधी राह दिखाने वाले
99 या सबुर ए बड़े सब्र करने वाले

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY