तहय्यतुल वुज़ू का इनाम

0
271
tahiyatul wudu
tahiyatul wudu
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

tahiyatul wudu Ka Inam

तहय्यतुल वुज़ू

वुज़ू करके अगर मकरूह न हो तो दो रकअत नमाज़ पढ़ना मुस्तहब है।

“नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमाया

कि आदमी वुज़ू करे और अच्छा वुज़ू करे और दिल से दो रकअत नफ़ल पढ़े

उसके लिए जन्नत वाजिब हो जाती है।

(मुस्लिम शरीफ़)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY