नमाज़ ए जुम्मा की शराइत–नमाज़ ए जुम्मा किस पर फ़र्ज़ है?

0
139
Namaz e Jumma Ki Sharaait – Namaz E Jumma Kis Per Farz Hai?
namaz
Islamic Palace App

Namaz e Jumma Ki Sharaait – Namaz E Jumma Kis Per Farz Hai?

नमाज़ ए जुम्मा की शराइत–नमाज़ ए जुम्मा किस पर फ़र्ज़ है?

नमाज़ ए जुम्मा किस पर फ़र्ज़ है?

(Answer)

नमाज़ ए जुमा हर उस शख्स पर फ़र्ज़ है जिस में दर्जा जाईल 7 शराइत पाई जाएँ:

1. मर्द होना (यानी औरतो पर नमाज़ ए जुमा फारद नहीं )

2. आज़ाद होना (गुलाम पर नमाज़ ए जुमा फ़र्ज़ नहीं)

3. मुक़ीम होना (यानी मुसाफिर पर नमाज़ ए जुमा फ़र्ज़ नहीं)

4. सहित मंद होना (यानी बीमार पर नमाज़ ए जुमा फ़र्ज़ नहीं )

5. अमन वाला होना (यानी अगर किसी शख्स को हलाकत का खूफ हो किसी दुश्मन या किसी जानवर की तरफ से, तू उस पर ब नमाज़ ए जुमा फ़र्ज़ नहीं )

6. बिना होना (यानी आंखों का सही होना, अंधे पर नमाज़ ए जुम्मा फ़र्ज़ नहीं अगरचे कोई ले कर जाने वाली और लाना वाला हो, पहर ब उस पर नमाज़ ए जुम्मा फ़र्ज़ नहीं)

7. चलने पर क़द्र होना (अगर कोई शख्स अपहज है, टांगो से माज़ूर है तू उस पर ब जुम्मा फ़र्ज़ नहीं)

(नूर उल इज़ाह)

Jumma prayer is obligatory for those who fulfill the following seven conditions:

1. Being a man (Jumma prayer is obligatory for men only, women are exempted).

2. Being an independent (Jumma prayer is not obligatory for slaves) .

3. Being a dweller (not obligatory for travelers).

4. Being healthful (patient, and sick are exempted) .

5. Being safe (if someone feels that if he goes for Jumma prayer his enemy or some beast will kill him, then its not obligatory for that person to offer Jumma prayer) .

6. Sighted (having ability to see, blinds are exempted).

7. Having ability to walk (lame are exempted, if someone is injured and cant walk then not obligatory for him to offer Jumma prayer.

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY