जानिए क्या हैं सफ़र की सुन्नतें पढ़ें अरबी की साथ दुआ

0
375
Safar Ki Sunnatein
Safar Ki Sunnatein
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Safar Ki Sunnatein

सफ़र की सुन्नतें

    1. जहाँ तक हो सके सफ़र मे कम अज़ कम दो आदमी जाए। तनहा आदमी सफ़र न करे। अलबत्ता ज़रूरत और मजबूरी में कोई हर्ज नहीं कि तनहा सफ़र करे।
    2. सवारी के लिए रकाब मे पाँव रखें तो बिस्मिल्ला कहें।
    3. सवारी पर अच्छी तरह बैठ जायें तो तीन मर्तबा अल्लाहु अकबर कहें।

फिर यह दुआ पढ़े:-

“سُبْحَانَ الَّذِي سَخَّرَ لَنَا هَـٰذَا وَمَا كُنَّا لَهُ مُقْرِنِينَ وَإِنَّا إِلَىٰ رَبِّنَا لَمُنقَلِبُونَ”

“SubhanAll-ladhi, sakh-khara lana, haatha, wa-ma kunna lahu mukrineen. Wa inna ila Rubbina lamunqalibuun.”

फिर यह दुआ पढ़े:-

“اللهم إنا نسألك في سفرنا هذا البر والتقوى ومن العمل ما ترضى اللهم هون علينا سفرنا هذا واطو عنا بعده اللهم آنت الصاحب في السفر والخليفة في الأهل اللهم إني أعوذ بك من وعثاء السفر وكآبة المنظر وسوء المنقلب في الأهل والمال”

“Allahumma inna as’aluka fi safarina hadhal-birra wat-taqwah, wa minal ‘amali ma tardha. Allahumma hawwin ‘alaiyna safarana hadha waTwi ‘anna bu’dahu. Allahumma antas-Saahibu fis-safari, wal-khalifatu fil-ahli. Allahumma inni a’udhu bika min wa’tha’is-safar, wa ka’abtil-mandhari, wa soo’il-munqalabi fil-ahli wa-maali, wal-walad.”

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

तर्जुमा:- ऐ अल्लाह आसान कर दीजिये हम पर इस सफ़र को और तय कर दीजिये हम पर दराज़ी इसकी। ऐ अल्लाह आप ही राफ़िके सफ़र हैं सफ़र में और ख़बर गीरां हैं, घरबार में। या अल्लाह मैं पनाह माँगता हूं आपकी सफ़र की मशक्क़त से और बुरी हालत देखने से और वापिस आकर बुरी हालत पाने से, माल में और घर में और बच्चों में।

4 . मुसाफ़िरत में ठहरने की ज़रूरत पेश आए तो सुन्नत यह है कि रास्ते से हट कर क़याम करे। रास्ते मे पड़ाव न डाले कि आने जाने वालों का रास्ता रुके और उनको तक्लीफ़ हो।

5 . सफ़र के दौरान जब सवारी बुलन्दी पर चढ़े तो तीन मर्तबा अल्लाहु अकबर कहें

6 . जब सवारी नशेब या पस्ती में उतरने लगे तो तीन बार सुबहान अल्लाह कहें।

7 . जिस शहर या गांव मे जाने का इरादा हो उसे जब दूर से देखें तो तीन बार यह दुआ पढें

“ألهوما باريك لانا فيها”

“Allahumma barik lana fiha.”

ऐ अल्लाह बरकत दे हमें इस शहर में

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

8 . और जब उस शहर मे दाख़िल होने लगें तो यह दुआ पढ़ें।

(“اللهومار-سقنا جنة، وا حبيبنا ايلا اهليها، وا حبيب ساليهي أهليها إلاينا”)

“Allahummar-suqna janahaa, wa habibnaa ila ahlihaa, wa habib salihee ahlihaa ilayna.”
या अल्लाह नसीब कीजिये हमें समरात इस के और अज़ीज़ का दीजिये हमें अहले शहर के नज़दीक और मुहब्बत दीजिये हमें इस शहर के नेक लोगों की।

9 . रसूल अल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का इर्शाद है कि जब सफ़र की ज़रूरत पूरी हो जाए तो अपने घर लौट आए। बाहर सफ़र में बिला ज़रुरत ठहरना अच्छा नहीं।

10 . दूर दराज़ के सफ़र से बहुत दिनों के बाद लौटे तो सुन्नत यह है कि अचानक घर में न दाख़िल हो बल्कि अपने आने की ख़बर करे और घर मे आए तो उसी वक़्त घर में न आए बल्कि बहेतर है कि सुबह मकान में जाए अलबत्ता अहले खाना तुम्हारे आने से आगाह हों और उनको तुम्हरा इन्तज़ार भी हो तो उसी वक़्त घर मे दाख़िल होने में कोई हर्ज नहीं। इन मसनून तरीक़ो पर अमल करने से दीन दुनिया की भलाई हासिल होगी।

11 . सफ़र मे कुत्ता और घुंघरू साथ रखने की मुमानिअत आई है। क्योंकि इनकी वज्ह से शैतान पीछे लग जाता है और सफ़र की बरकत जाती रहती है।

12 . सफ़र से लौट कर आने वाले के लिए यह मसनून है कि घर में दाख़िल होने से पहले मस्जिद में जाकर दो रकअत नमाज़ पढ़ें।

13 . जब सफ़र से वापिस आए तो यह दुआ पढ़ें।

(“عايبونا، تايبونا،” أبيدونا، لي ربينا هاميدونا”)

“Aa’ibuna, ta’ibuna, ‘aabiduna, li Rabbina haamiduna”
हम लौटने वाले है। अल्लाह की बन्दगी करने वाले हैं अपने रब की हम्द करने वाले हैं।

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.