पढ़िए क्या हैं मौत और उसके बाद की सुन्नतें पढ़ें अरबी की साथ दुआ

0
313
Islamic Palace App

मौत और उसके बाद की सुन्नतें

1. जब यह मालूम होने लगे  की मौत का वक़्त क़रीब है तो उस वक़्त जो लोग मौजूद हों उसका मुह क़िबले की तरफ़ फेर दें।

2. जब मौत वाक़ई हो जाए तो अहले तअल्लुक़ यह दुआ पढ़ें

انا لله وانا اليه راجعون؛ اللهم اجرني في مصيبتي واخلفلي خيرا منها

“Inna lillahi wa Inna Ilaihi Raji’un. Allahumma ajurni fi musibati wakhluf li khayran minha”

बेशक हम अल्लाह ही के लिए हैं और हम अल्लाह ही की तरफ़ लौटने वाले हैं। ऐ अल्लाह मेरी मुसीबत मे अज्र दे और इसके इवज़ मुझे इससे अच्छा बदल इनायत फ़र्मा।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

3. रूह निकल जाने के बाद मय्यत की आंखें बन्द करे।

4. जो शख़्स मय्यत को तख़्त पर रखने के लिए उठाए या जनाज़ा उठाये तो बिस्मिल्लाह कहे।

(इबने शीबा)

5. मय्यत को दफ़्न करने में जल्दी करना सुन्नत है।

(सुनने अबूदाऊद)

6. जब मय्यत को क़ब्र मे रखें तो यह दुआ पढ़ें।

بِسْمِ اللَّهِ وَعَلَى مِلَّةِ رسول الله صَلَّى اللّٰهُ عَلَيْهِ وَسَلَّم

‏ “ Bismillah wa ‘ala millati rasul-illah sallallahu alaihi wa sallam”

 

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

7. मय्यत को क़ब्र मे दाहिनी करवट पर इस तरह लिटाना चाहिए की पूरा सीना काबे की तरफ़ हो और पुश्त को क़ब्र की दीवार से लगा दे। आजकल लोग सिर्फ़ मुँह काबे की तरफ़ कर देते हैं और चित लिटाते हैं कि सीना आसमान की तरफ़ होता है। ये बिलकुल ख़िलाफ़े सुन्नत है।

8. मय्यत के रिश्तेदारों को खाना देना मसनून है। इस खाने को तमाम बिरादरी या रिश्तेदारों का खाना जाइज़ नहीं। मय्यत वालों के खाने में जो शरीक हैं उनके लिए ये खाना जाइज़ है। नामवरी और दिखवे के लिए ऐसा करना जायज़ नहीं। जो मौजूद हो दे दिया जाए।

(जामेअ तिर्मिज़ी, इबने माज़ा)

9. क़ब्र को न बहुत ऊँची करें न पुख़्ता बनाएं।

(मदारिजुत्रबुवह)

10. क़ब्र पर पानी छिड़कना सुन्नत है।

(दर्रे मुख़्तार, शामी)

11. जब मय्यत के दफ़्न से हुज़ूर सल्लाल्ल्हू अलैहि व सल्ल्म फ़ारिग़ होते तो खुद भी और दूसरों के लिए फ़र्माते कि अपने भाई के लिए इस्तिग़फ़ार करो। और साबित क़दम रहने की दुआ करो कि अल्लाह उसे मुनकर नकीर के जवाब मैं साबित क़दम रखे

(अबू दाऊद, बैहक़ी, हाकिम)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.