कोई आदमी कब तक मोमिन नहीं हो सकता! क्या है एक मोमिन की बुनियादी आदत?

0
92
The Basic habit of Momin
Islamic Palace App

The Basic habit of Momin

The Basic habit of Momin and The identity of the believer is that he likes the same for his brother as he likes for himself.

Anas Razi said that the Prophet (sallallhu alaihi wasallam) said:

“None of you can be Momin, unless you want for your brother what he wants for himself.”

This habit has been termed as basic in Habit and Akhilak’s statement. Muslims should wish they were well-versed in Muslim brethren but not all humans. The world of such human beings and ultimately leads to great comfort and comfort.

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


Hindi Translation

ईमान की पहचान है कि अपने भाई के लिए वही पसन्द करे जो अपने लिए पसन्द करता है।

अनस रज़ि. से रिवायत है कि नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्ल्म ने फ़रमाया :

“तुम में से कोई आदमी मोमिन नहीं हो सकता, जब तक अपने भाई के लिए वही न चाहे जो अपने लिए चाहता है।

फायदे : आदत और अखलाक के बयान में इस आदत को बुनियादी करार दिया गया है।

मुसलमानों को चाहिए कि वह मुस्लमान भाइयों बल्कि तमाम इन्सानों का खैर-ख्वाह रहे।

ऐसे इन्सान की दुनिया और आख़िरत बड़े आराम और सुकून से गुज़रती है।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.