हमारे प्यारे नबी ﷺ को अल्लाह की तरफ से कुछ खास बुज़ुर्गी और बढ़ाईयां जो और नबी को नहीं दी

0
2022
Islamic Palace App
हमारे प्यारे नबी ﷺ को अल्लाह की तरफ से कुछ खास बुज़ुर्गी और बढ़ाईयां जो और नबी को नहीं दी

आप ही का नाम मुबारक फ़रिश्ते दरूद में पढ़ते हैं

आप ही का मुबारबक अर्श-ए-अज़ीम और सब आसमानों पर और जन्नत के दरवाज़े पर लिखाया गया

आप ही का नाम मुबारक आने की खबर अम्बिया अलैहिसलाम देते रहे

आप ही के पैदा होने से शैतानो का आसमानो पर जाना बंद हुआ

आप ही का सीना मुबारक फरिश्तों ने 4 दफा चाक कर के बंद किया

आप ही की कमर पर मोहरे नबूवत थी

आप ही के बाज़ नाम अल्लाह तआला के नामों से मिलते हैं

आप ही क 2 नाम अहमद और मोहम्मद जाती है

आप ही तमाम औलादे आदम में सब से बड़े आक़िल और समझदार थे

आप ही तमाम औलाद आदम अलैहिस्सलाम से हुस्न-औ-जमाल में बढ़ कर हैं

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…


 

आप ही ने जिब्राइल अलैहिसलाम को असली सूरत में देखा

आप ही को जन्नत और दोज़ख की सैर कराइ गायी

आप ही क लश्कर में फ़रिश्ते काफिरों से लड़ने ए

आप ही की किताब क़ुरआन शरीफ़ में हर तरह के एहकाम बयान हुए

आप ही अनपढ़ (उम्मी) थे कोई आदमी आपका उस्ताद नहीं था

आप ही की किताब का अल्लाह तआला ने वादा फ़रमाया

आप ही की किताब ज़बानी याद करना आसान है

आप ही की किताब ज़रूरत के मुआफ़िक थोड़ी थोड़ी उत्तरी

आप ही को सब नबियों से ज़्यादा मोज़िज़े मिले

आप ही पर नबुव्वत का एहद ख़त्म हुआ

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…


 

आप ही की शरीयत क़यामत तक जारी रहेगी

आप ही तमाम इन्सान और जिनों क नबी हैं

आप ही तमाम मख़लूक़ के लिए रेहमत बनाये गए

आप ही को नबियों से ज़्यादा इल्म दिया गया

आप ही का शहरे मदीना तमाम ज़मीन के शहरों में बुज़ुर्गी में बढ़ कर हैं

आप ही के मुताल्लिक़ मय्यत से क़बर में पूछ गूच होती है

आप ही पर और आप की उम्मत पर 5 वक़्त की नमाज़ पढ़ना फ़र्ज़ हुई

आप ही पर नमाज़ में सलाम भेजना वाजिब हुआ

आप ही के सामने ऊंची आवाज़ से बोलना और बे पावै से चलना हराम था

आप ही को दूर से आवाज़ देकर पुकारना और बुलाना हराम था

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…


 

आप ही के जिस्म-ईथर पर मक्खी नहीं बैठती थी

आप ही का पसीना मुबारक खुशबु वाला था

आप ही सब लोगों में ऊँचे नज़र आते थे

आप ही के पैदा होने के वक़्त रुए ज़मीन के बट उलटे हो गये

आप ही वफ़ात पाने की जगे पर दफ़न हुए

आप ही के जनाज़े पर बे इमाम के अलग अलग मुसलमानों ने नमाज़ पढ़ी

आप ही के लिए ज़मीन सुकड़ जाती थी

आप ही को 2 मर्तबा खलील और हबीब के हासिल हुए

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…


आप ही का झूला फ़रिश्ते हिलाते थे

आप ही के ऊपर धूप के वक़्त बादलों ने साया किया है

आप ही की ताज़ीम के लिए दरख़्त झुक जाते थे

आप ही को ख़्वाब में देखना सच है शैतान आप की सुरते पाक में नहीं बन सकता

आप ही का ज़िक्र और याद अल्लाह तआला का ही ज़िक्र और याद है

***********प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्ल्म**********

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.