शैतान के (16) मशहूर कारनामे,जानिए कौन-कौनसे हैं

0
663
Shaitan Ke 16 Mashoor Karname
Shaitan Ke 16 Mashoor Karname
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Shaitan Ke 16 Mashoor Karname

शैतान के मशहूर कारनामे

1. हज़रत आदम (अलैहिस्सलाम) और हज़रत हव्वा को बहका कर गन्दुम खिलाया और उन्हें जन्नत से निकलवाया।

2. काबिल के हाथों हाबील का क़त्ल करवाया।

3. दुनिया में बुत परस्ती, आतिश परस्ती जारी करवाई।

4. हज़रत याकूब अलैहिस्सलाम के बेटों के हाथों छोटे भाई हज़रत युसूफ अलैहिस्सलाम को कुएं में डलवाया।

5. हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम को मरज़ के वक़्त उनकी बीवी रहीम के मलेकिन से बाल कटवाए और हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम को उन्हें मारने की कसम खिलवाई।

6. हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के ज़माने के फिरओन को खुदाई दावा करवाया।

7. हज़रात हारून अलैहिस्सलाम वक़्त सामरी जादूगर से बछड़े के जरिए गौ परस्ती करवाई।

8. शद्दाद को खुदाई दवा करवाया। उस से जन्नत बनवाई।

9. करून को दौलत की लालच में फंसा कर खैरात ज़कात से रुकवाया।

10. हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम को अंगूठी का चमका देकर फ़ित्ने में फंसाया।

11. हज़रत याहिया अलैहिस्सलाम को औरत के मुआमले में बेगुनाह कत्ल करवाया।

12. हज़रत ज़करिया अलैहिस्सलम को मरयम के साथ ज़ना का इलज़ाम लगवा कर आरे से कटवाया।

13. हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के खिलाफ क़ुफ़्फ़ारे कुरैशा को भड़का कर क़त्ल की शाजिश रची मगर नाकाम हुआ।

14. खुलफाए राशिदीन को सियासत का जाल फैला कर क़त्ल करवाया।

15. अहले बैत को यज़ीद की बैअत न लेने की वजह से शहीद करवाया।

16. कई मुत्तक़ी और परहेज़गारों को मामूली लग़्ज़िश के ज़रिए उनकी विलायत खत्म करवाई।

दिने इस्लाम में फ़िर्क़े पैदा किए। दुनिया में कई हुकूमतों को आपस में लड़वा कर खाना जंगी कराई।

बाप बेटों,माँ बच्चों में,मियां,बीवी में और भाई भाई में झगड़ा करवा कर उन्हें इलाहिदा करवाया।

खानदान को तबाह व बरबाद करने में अहम् रोल अदा किया और कर रहा है।

औरत को जेब व ज़मीन के लिए बाजार का रुख बता कर औरत की ह्या को खत्म करवा रहा है।

औरतीं उसके फरेब में आकर इस्मत व आबरू कौड़ियों के मोल बेच रही हैं। औरत मर्द को खलत मलत कर रहा है।

(तारीख़े आलम सफ़ा न० 41)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.