सहाबा रज़ि.ने किस तरह दीन सीखा जानिए

0
65
Sahaba Razi allahu anhu ne kis tarah deen sikha
Makkah Madina
Islamic Palace App

Sahaba Razi allahu anhu ne kis tarah deen sikha

Sahaba Razi allahu anhu ne kis tarah deen sikha

सहाबा रज़ि.ने किस तरह दीन सीखा?

इसी तरह वजह से अल्लाह तआला ने जब कभी कोई आसमानी किताब दुनिया में भेजी तो उसके साथ एक रसूल जरूर भेजा,

वरना अगर अल्लाह तआला चाहते तो बराहे रास्ते किताब नाज़िल फरमा देते,

लेकिन बराहे रास्ते किताब नाज़िल करने के बजाये हमेशा किसी रसूल और पैगम्बर के ज़रिये किताब भेजी ताकि बाह रसूल

और पैगम्बर उस किताब पर अमल करने का तरीका लोगों को बताये उस रसूल कि सोहबत

और उसकी ज़िन्दगी के तर्ज़े अमल से लोग यह सीखें कि उस किताब पर किस तरह अमल क्या जाता है।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

हज़राते सहाबा रज़ि. से पूछिये कि उन्होंने किस यूनीवर्सिटी में तालीम पाई?

वे हजरात कौन से मदरसे से पढ़ कर फारिग हुए थे? उन्होंने कौन सी किताबें पढ़ीं थीं?

सही बात यह है कि उनके लिये कोर्स मुकर्रर था, न कोई निसाबे तालीम था न किताबें थीं लेकिन एक सहाबी के तर्जे अमल पर हज़ार मदरसे

और हज़ार किताबें कुरआन हैं इसलिये कि उस सहाबी ने नबी-ए-करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की सोहबत के नतीजे में

हुजूरे अक्दस सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की एक एक अदा को अपनी जिन्दगी में अपनाने की कोशिश की और इस तरह वह शहाबी बन गये

(दीन सीखने और सीखने का तरीक़ा सफ़ा न० 8 )

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.