गैर औरत के साथ तहाई में बैठना केसा है?

0
160
Biwi Se Hum Bistari Ke Irade ke Waqt Ki Dua
Biwi Se Hum Bistari Ke Irade ke Waqt Ki Dua
Islamic Palace App

Gair Aurat Ke sath mein Baithna kaisa hai?

Gair Aurat Ke sath mein Baithna kaisa hai?

गैर औरत के साथ तहाई में बैठना केसा है?

इब्न अब्बास (रज़िअल्लाहुअन्हु) से रिवायत है कि उन्होंने रसूलुल्लाह (सल्लाल्ल्हू अलैहि वसल्लम) से सुना कि,

“कोई मर्द किसी (गैर महराम) औरत के साथ तन्हाई में न बैठे और कोई औरत उस वक़्त तक सफर न करे जब तक उसके साथ उसका महराम न हो।”

इतने में एक सहाबी खड़े हुए और फ़रमाया —

“या रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)!

मैंने फलाह जिहाद में अपना नाम लिखवा दिया है

और मेरी बीवी हज्ज के लिए जा रही है”

तो आप (सल्लाल्ल्हू अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया — “तू भी उसके साथ हज्ज के लिए जा”।

(सहीह बुखारी, 4/3006)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY