जानिए शैतान की पैदाइश के बारे में पूरी कहानी

0
1697
Islamic Palace App

Shaitan Ki Paidaish

शैतान की पैदाइश

तक़रीबन एक लाख 25 हज़ार साल क़ब्ल जित्रात को पैदा किया गया।

यह हज़रात आदम अलैहिस्सलाम से पहले दुनिया में आबाद थे

दुनिया में सबसे पहले अबुल-जिन्न तारा नोश जिन्न पैदा हुए वह 26 हज़ार साल हुकूमत करते रहे

और जब उनकी औलाद ने शरीअत से सरकशी की तो वह फ़ना हो गए ।

उसके बाद दूसरे दौर में चलपास जिन्न पैदा हुए । वह भी 26 हज़ार साल दुनिया में रहे ।

शरीयत को भुला देने पर वह भी फ़ना हो गऐ । तीसरी बार हामूस जिन्न आए

और सरकशी करने लगे तो अल्लाह तआला ने फरिश्तों को हुक्म दिया कि ज़मीन पर मलाइका की फौज ले जाओ

और उन्हें कतल कर दो हुख्मे इलाही से फ़रिश्तो ने जिन्नों को कतल करना शुरू कर दिया ।

कुछ जिन्न जज़ीरो में जा कर छुप गए कुछ जिन्न चीन में जा कर बस गऐ ।

उनमे एक छोटी उम्र का बच्चा जिसकी उम्र तक़रीबन 282 साल थी उसका नाम अज़ाज़ील था ।

वालिद का नाम चलीप और माँ का नाम राबलिस था । जिसका चेहरा माद्दा भेढिया जैसा था ।

उसे अल्लाह के हुक्म से फ़रिश्ते आसमान पर ले गऐ ।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

वहां उसकी परवरिश हुई । उसने अपनी इबादत की वजह से शोहरत हासिल कर ली और फ़रिश्तो का उस्ताद बन गया ।

और दीन का दर्स देता रहा । उसने तमाम आसमानो की सेर की ।

जन्नत व दोज़क का नज़ारा भी किया एक दीन आसमान की सेर करता हुआ अर्श आज़म पर पंहुचा

और वहां लोहे महफूस पर आऊज़ुबिल्लाही मिनश्शैतानिरजिम। लिखा देखा तो अल्लाह तआला से पूछा :

ऐ रब्बुल -आलमीन यह शैतानिर्रजिम कौन है? जिस से पनाह मांगनी चाहिए?

इरशाद हुआ ”हमारी मखलूक में जो अनवा व अक्साम की नेमतों से सरफ़राज़ होगा

लेकिन हमारी नाफरमानी की वजह से मरदूद होगा । फिर अर्ज़ किया “ऐ अल्लाह।

मुझे इस मरदूद को दिखा ” इरशाद हुआ जल्द ही तू उसे देखेगा

और फिर वह जब भी सजदे से सर उठाता उसे सजदे की जगह ” लअनल्लाहु अला इबलीस ” लिखा नज़र आता था

और जब वह कालिमा पढ़ता उसकी ज़बान पर यही कालिमा आता था । आगे चल कर यही जिन्न शैताने लईन बना ।

(तारीख़े आलम सफ़ा न० 43)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.