जानिए तकब्बुर करने वालो की सज़ा क्या है

0
250
Ek farz ke bare mein mazduri ko puri mazduri dena
pul-e-sirat
Islamic Palace App

Takabbur Karne ki saza

Takabbur Karne ki saza

तकब्बुर करने की सज़ा

इल्मी लियाक़त या इबादत या दयानतदारी मैं या दौलत व इज़्ज़त मैं

या कुव्वत व क़ौमियत या हुकूमत वग़ैरा में अकड़ना

और इतराना और अपने आप को बड़ा समझना यह तकब्बुर है।

इसी तकब्बुर की वजह से बहुत से लोग गुमराह हो गये हैं।

सब से बड़ा गुमराह शैतान भी इस वजा काफ़िर और दोज़खी हुआ।

सुल्ताने दो जहाँ हज़रत मोह्हमद मुस्तफ़ा (स०) फ़रमाते हैं कि जिसके दिल में राई के दाने के बराबर भी तकब्बुर होगा

वह जन्नत में नहीं जायेगा और जो शख्स तकब्बुर करता है

अल्लाहतआला उसकी गर्दन तोड़ देता है यानी उसको ज़लील और बेइज़्ज़त कर देता है।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

ऐसे लोगों यह सोचना चाहिए कि यह जितनी खूबियां हमारे अन्दर हैं अल्लाहतआला की दी हुई हैं।

अगर वह चाहे तो ज़रा-सी देर में सब छीन ले।

फिर अपने आप को औरों से बड़ा समझना फज़ूल और फिरऔनियत और शैतानी काम है,

जिसका नतीजा ज़िल्लत और बेइज़्ज़त होना है और दोज़ख में जाना है।

(बाग़े-जन्नत यानी खुदाई बाग़,साफा न० 84 )

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.