नीलामी की खरीद-फरोख्त का बयान।

0
67
Nilami ki khareed farokht ka bayan
Auction
Islamic Palace App

Nilami ki khareed farokht ka bayan

Nilami ki khareed farokht ka bayan

नीलामी की खरीद-फरोख्त का बयान।

जाबिर बिन अब्दुल्लाह रज़ि. से रिवायत है की एक आदमी ने गुलाम को अपने मारने के बाद आजादी का इख़्तियार सौंप दिया। मगर वह आदमी कुछ मुद्दत के बाद मोहताज हो गया तो रसूलुल्लाह सलल्ललाहु अलैहि वसल्लम ने गुलाम को पकड़कर फ़रमाया, इस गुलाम को मुझसे कौन खरीदता है? नईम बिन अब्दुल्लाह ने उसको किस कद्र माल के बदले लिया, फिर आपने वह कीमत उसके मालिक को दे दी।
फायदे: नीलामी अगर कीमत बढ़ाने के लिए की जाये तो मना है अगर रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इस गुलाम को नीलामी के तौर पर हाजरीन के सामने पेश करके फरमाया कि उसे कौन खरीदता है?

(औनुलबारी 3/69)
(मुख़्तसर सही बुखारी सफ़ा न० 781)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.