अन्धे को अगर कोई वक्त बताने वाला हो तो उसका अज़ान कहना।

0
105
Andhe ko agar koi waqt batane wala ho to uska azan kehna
Masjid Al-Nabwi
Islamic Palace App

Andhe ko agar koi waqt batane wala ho to uska azan kehna

Andhe ko agar koi waqt batane wala ho to uska azan kehna

अन्धे को अगर कोई वक्त बताने वाला हो तो उसका अज़ान कहना।

इब्ने उमर रज़ि. से रिवायत हैं कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया, बिलाल रात को अजान देते हैं। इसलिए तुम (रोज़ा के लिए) खाते पीते रहो यहां तक कि इब्ने उम्मे मकतूम रज़ि. एक नाबिया (अन्धे) आदमी थे। उस वक्त तक अज़ान न देते, यहां तक कि उनसे कहा जाता सुबह हो गयी, सुबह हो गयी।

फायदे: रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की रिसालत के जमाने से ही सहरी की अज़ान कहने का दस्तूर चला अ रहा हैं, जो लोग इस अज़ान अव्वल की मुखालिफत करते हैं, उनकी राय सही नहीं हैं। अलबत्ता इसे अज़ान तहज्जुद नहीं खयाल करना चाहिए।

क्योंकि इसका मकसद यूँ बयान हुआ कि तहज्जुद पढ़ने वाला घर वापस चला जाये और सोने वाला जागकर नमाज़ की तैयारी करे और न ही उसे फज़्र की अजान से बहुत पहले कहना चाहिए।

(मुख़्तसर सही बुख़ारी, सफ़ा न० 296)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.