अमलों का दारोमदार नियत पर है चाहे वो बीवी बच्चो की ज़िम्मेदारी ही क्यों न हो

0
130
Ek gunah ke bare mein aurat ka khushbu laga kar bahar nikalna
Muslim Family
Islamic Palace App

Sawab ke tamam kam niyat par tike hone ka bayan

(सवाब के) तमाम काम नियत पर टीके होने का बयान

उमर बिन खत्ताब रज़ि से मरवी हदीस कि अमलों का दारोमदार नियत पर है। शुरू किताब में गुजर चुकी है,

अलबत्ता इस मकाम पर ” हर इन्सान को वही मिलेगा, जो वह नियत करेगा।”

के बाद कुछ इजाफा है कि अगर कोई अपना मुल्क अल्लाह

और उसके रसूल के लिए छोड़ेगा तो उसकी हिजरत अल्लाह

और उसके रसूल की तरफ होगी, फिर उन्होंने बाकी हदीस को बयान किया,

जो पहले गुजर चुकी है।

अबू मसऊद रज़ि नबी (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से रिवायत करते हैं कि अपने फ़रमाया:

‘जब मर्द अपनी बीवी पर सवाब कि नियत से खर्च करता है तो वो भी उसके हक में सदका होता है।”

फायदे :

मालूम हुआ कि अपने बीवी-बच्चों पर खुश दिली से खर्च करना भी सवाब का जरिया है। (अन्नफकात 5351) बशर्ते कि सवाब की नियत हो, इसके बगैर जिम्मेदारी तो अदा हो जाएगी, लेकिन सवाब नहीं मिलेगा।

(औनुलबारी,1/184)

(मुख्तसर सही बुखारी सफ़ा न० 54)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.