जो शख्स मय्यत कि तरफ से कर्ज का जिम्मेदार, हो उसे पलटने कि इजाजत नहीं।

0
118
Ek farz ke bare mein karz ada karna
Karz
Islamic Palace App

Jo shaks mayyat ki taraf se karz ka zimmedar ho use palatne ki ijazat nahi

जो शख्स मय्यत कि तरफ से कर्ज का जिम्मेदार, हो उसे पलटने कि इजाजत नहीं।

जाबिर बिन अब्दुल्लाह रज़ि. से रिवायत है,

उन्होंने कहा नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया,

अगर बहरेन का माल आ गया तो मैं तुम्हें इस कद्र दूंगा,

लेकिन बहरेन के माल से पहले ही रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की वफ़ात हो गई।

फिर जब बहरेन का माल आया तो अबू बकर सिद्दीक रज़ि. ने ऐलान किया,

जिस शख्स से रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कुछ वादा फरमाया हो

या आप पर किसी का कर्ज हो तो वह मेरे पास आये।

चुनांचे मैंने उनसे जाकर कहा की

रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने मुझे इतना देने का वादा फरमाया था।

अबू बक्र सिद्दीक रज़ि. ने दोनों हाथों भरकर मुझे दिये

और फरमाया कि इसे शुमार करो (गिनों) ।

मैंने शुमार किया तो पांच सौ दिरहम थे।

फिर उन्होंने फरमाया, इससे दोगुना और लेलो।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

फायदे:

हज़रत अबू बकर सिद्दीक रज़ि. जब रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के खलीफा मुकर्रर हुये

तो वो आपके तमाम मामलों व मुआहदात (वादों) के जिम्मेदार ठहरे,

लिहाजा उन्हें रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के तमाम वादों को पूरा करना जरुरी हुआ।

चुनांचे उन्होंने उन वादों को पूरा किया क्योंकि रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) खुद भी वादों को पूरा करने के पाबन्द थे।

(औनुलबारी, 3 /155)

(मुख़्तसर सही बुखारी सफ़ा न० 810)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.