हज़रत इब्राहीम और हज़रत इस्माईल ने ख़ान-ए-कआबा की मरम्मत का काम शुरू किया था

0
134
Allah ki narazgi musibar ka sabab hai
Makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Hazrat Ibrahim and Hazrat Ismail started the repair work of Khan-e-Kaaba

Hazrat Ibrahim and Hazrat Ismail started the repair work of Khan-e-Kaaba by Allah Tabarak and Tala’s orders. At that time, the Hazrat Ibrahim Alaihissalam was standing on a stone and bricks bait and Hazrat Ismail alaihissalam was giving stones and mud from below. Therefore, the stone which was standing on the stone of the Hazrat Ibrahim alaihissalam was turned to the stone Hazrat Ibrahim alaihissalam, where the marks of your footsteps were on the stone.

(Tareekhe Alam, Safa No 51)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


Hindi Translation

मक़ामे इब्राहीम :

अल्लाह तबारक व तआला के हुक्म से हज़रत इब्राहीम और हज़रत इस्माईल ने ख़ान-ए-कआबा की मरम्मत का काम शुरू किया। उस वक़्त हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम एक पत्थर पर खड़े हो कर ईटें लगा रहे थे और हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम नीचे से गारह और पत्थर दे रहे थे। लिहाज़ा हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम जिस पत्थर पर खड़े थे वह पत्थर हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम जिधर चाहते मुड़ जाता था उस पत्थर पर आपके कदमों के निशान आज तक ज्यूं के त्यूं हैं।

सऊदी हुकूमत ने एक जंगले में इसे मेहफ़ूज़ कर दिया है। तवाफ़े कअबा के बाद मक़ामे इब्राहीम की सीध में ज़ाइरीन नमाज़ अदा करते हैं। यह मक़ाम भी दुआओं के मक़्बूलियत का मक़ाम है।

(तारीखे आलम, सफ़ा न० 51)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.