अच्छी सोहबत इख़्तियार करो, यह सोहबत ऐसी चीज़ है जो इन्सान को कीमिया बना देती है

3
63
Accept good Sohbat work is way of islam
Madarsa
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Accept good Sohbat work is way of islam

Accept good Sohbat work is way of islam : Hi there! It is such a thing that makes a person an alchemy,

so that all our elders say that if you have to learn miserable,

then repair your company, and go to those people who take care of the poor and adopt him.

Has happened. He will gradually create humility and concern for you,

and if you sit in wrong company,

then you will be seen on the condition of wrongfulness,

and this poor man is walking like this from the time of’ Huzur (sallallahu alaihi wasallam).

Tabin was prepared from the sahab of Sahab-e-kiram with the help of Huzur Akdas (sallallahu alaihi wasallam),

and the Tabbines were prepared after the Tabin’s culture,

all of this misery was coming from that time till date.

(Deen Seekhne Or sikhane ka Tareeka, Safa no 8)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


Hindi Translation

अच्छी सोहबत इख़्तियार करो

बहर हाल! यह सोहबत ऐसी चीज़ है जो इन्सान को कीमिया बना देती है,

इसी लिये हमारे तमाम बुज़ुर्गों का कहना यह है कि अगर दीन सीखना है तो फिर अपनी सोहबत दुरुस्त करो,

और ऐसे लोगों के पास जाओ जो दीन के हामिल (उठाने वाले और उसको अपनाए हुए) हैं।

वह सोहबत धीरे धीरे तुम्हारे अन्दर भी दीन की लड़ाई, मुहब्बत और उसकी फ़िक्र पैदा करेगी,

और गलत सोहबत में बैठोगे तो फिर गलत सोहबत के असरात तुम पर जाहिर होंगे,

और यह दीन हुज़ूरे अक़्दस सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के वक्त से इसी तरह चला आ रहा है।

हुज़ूरे अक़्दस (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की सोहबत से सहाबा-ए-किराम की सोहबत से ताबिइन तैयार हुए,

और ताबिइन की सोहबत से तबए ताबिइन तैयार हुए,

यह सारे दीन का सिलसिला उस वक़्त से लेकर आज तक इसी तरह चला आ रहा है।

 

(दीन सिखाने और सिखाने का तरीक़ा, सफ़ा न० 8)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

3 COMMENTS

  1. Do you mind if I quote a few of your articles as long as I provide credit and sources back to your website?
    My blog is in the very same niche as yours and my users would truly benefit from a lot of the information you provide here.
    Please let me know if this okay with you. Regards!

  2. Definitely believe that which you said. Your favorite reason appeared to be on the
    internet the easiest thing to be aware of. I say to you, I certainly
    get annoyed while people think about worries that they plainly
    don’t know about. You managed to hit the nail upon the top as well
    as defined out the whole thing without having side effect , people can take a
    signal. Will probably be back to get more.
    Thanks

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.