क्या आदमी अपनी सदक़ा दी हुई चीज़ खुद खरीद सकता है या नहीं जानिए

0
72
Can a man buy his own gives sadaqa or the other thing himself
zakat
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Can a man buy his own gives sadaqa or the other thing himself??

Can a man buy his own gives sadaqa or the other thing himself?

Otherwise, there is no constraint in buying a second-hand item.

Omar Razi They said, “I gave a horse riding on the road once and for all, he made it very bad and useless.”

I intend that I buy it and I also thought that it would sell the horse to the horse,

then I asked the Prophet (PBUH) about him, then you said, do not buy him and do not take his baggage back.

If you give it to you in the same dirham, because the person taking back the money is like a vomiting vomit.

Benefits:

With this hadith, it is proved that it is haram to buy a sadaqa,

but it can be purchased from the other side provided by the Fakir. Similarly,

if you have a heritage as a remuneration, there is no harm in taking it.

(Aunulabari, 2/483)

(Mukhtasar Sahi Bukhari, Page No. 590)

Follow Us

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


Hindi Translation

क्या आदमी अपनी सदक़ा दी हुई चीज़ खुद खरीद सकता है? अलबत्ता दूसरे की सदक़ा दी हुई चीज खरीदने में कोई कबाहत नहीं।

उमर रज़ि. से रिवायत है, उन्होंने फ़रमाया कि मैंने एक बार अल्लाह कि राह में सवारी का घोड़ा दिया,

उसने उसे बिलकुल खराब और बेकार कर दिया।

मैंने इरादा किया कि उसे खरीद लूँ और मैंने यह भी खयाल किया कि वह उस घोडे को रास्ता बेच देगा,

फिर मैंने नबी (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से उसके बारे में पूछा तो आपने फ़रमाया,

उसे मत खरीद और अपना सदक़ा वापिस न ले।

अगरचे एक ही दिरहम में तुझे दे डाले,

क्योंकि खैरात देकर वापिस लेने वाला उल्टी करके चाटने वाले कि तरह है।

फायदे:

इस हदीस से बजाहिर साबित होता है कि अपना दिया हुवा सदक़ा खरीदना हराम है,

लेकिन किसी दूसरे का दिया हुवा सदक़ा फ़क़ीर से ख़रीदा जा सकता है।

इसी तरह अपना सदक़ा अगर बतौर विरासते मिले तो उसे लेने में कोई हर्ज नहीं

(औनुलबारी, 2/483)
(मुख़्तसर सही बुखारी, सफ़ा न० 590)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.