नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने (इसतिसका में) लोगों की तरफ अपनी पीठ कैसे फेरी?

0
118
How did the Prophet ﷺ stand his back towards people
Makkah madina
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

How did the Prophet ﷺ stand his back towards people?

How did the Prophet ﷺ stand his back towards people?


नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने (इसतिसका में) लोगों की तरफ अपनी पीठ कैसे फेरी?

अब्दुल्लाह बिन जैद रज़ि. से मरवी रिवायत में इतना इजाफा है कि

आपने लोगों कि तरफ पीठ करके क़िब्ले कि तरफ मुंह कर लिया

और दुआ फरमाने लगे, फिर अपनी चादर को उल्ट लिया।

उसके बाद तेज आवाज से किरअत करके हमें दो रकअतें पढ़ायीं।

फायदे:

इस हदीस से मालूम हुआ कि इसतिसका कि नमाज़ में खुत्बा नमाज़ से पहले ही है,

क्योंकि चादर का पलटना ख़ुत्बे में होता है, जो नमाज़ से पहले ही है।

अबू दाऊद कि रिवायत में इस की सराहत भी है।

लेकिन नमाज़ के बाद खुत्बा को बयान करने वाले रावियों की तादाद ज्यादा है।

फिर ईद और कुसूफ़ पर कयास भी तकाजा करता है कि खुत्बा नमाज़ के बाद है।

(औनुलबारी 2/ 121)

(मुख़्तसर सही बुखारी सफ़ा न० 422)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


English Translation

How did the Prophet (sallallahu alaihi wasallam) stand his back towards people?

Abdullah bin Zaid Razi There is an increase in the Marvi Riwayat that

Prophet (sallallahu alaihi wasallam) have turned back to the people and turned towards Qibla

and started praying, then reversed its sheet.

After that, we taught two rak’ats by sharpening the voice.

Advantages:

Through this hadith, it is known that it is already in the prayer that the Khutba is already before the Namaz,

because the sheath of the sheet is in Khutbei, which is already before the prayer.

Abu Dawood is also the hero of this tradition.

But after the prayers, there are a lot of people who make Khutba statements.

Then on Eid and Kusuf, also speculation that Khutba is after the Namaz.

(Aunulabari 2/121)

(Main Bukhari Safa No 422)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.