क्या करें अगर सामने कोई दीनी मसला आ जाये जिस की नबी सल्ल० से साफ़ दलील न मिले?

0
66
Burayi ko Bura Jaano Insan Ko Nahi
Quran
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

If face any kind of issues in deen then what should to do?

If face any kind of issues in deen then what should to do?

If face any kind of issues in deen In which there is no clear argument from the Prophet, then what should to do?

Hazrat Ali razii narrate that “I say : Ya Rasoolullah (Sallallahu alaihi wasallam)!

If we have any such case with us, in which for us there is no order to dictate or not,

then what do you order us to do about it?

Prophet (sallallahu alaihi wasallam) said : i this case deal with the understanding people and people of the faith

do not make any decision on anyone’s Infirmary (alone) opinion.

(Tabarani, Mazzazzweed)

(Muntkhab Ahadis: Page No672)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


क्या करें अगर सामने कोई दीनी मसला आ जाये जिस की नबी ﷺ से साफ़ दलील न मिले?

हज़रत अली रज़ि० से रिवायत है कि मैंने अर्ज़ किया : या रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)!

अगर हमारे साथ कोई ऐसा मामला पेश आ जाए ,

जिसमें हमारे लिए आपकी तरफ से कोई वाज़ेह हुक्म करने या न करने का न हो तो उस बारे में आप हमें क्या हुक्म फरमाते हैं ?

आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फर्माया :

इस सूरत में दीन की समझ रखने वालों और इबादत गुज़ारों से मश्वरा कर लिया करो और किसी की इन्फिरादी (अकेले) राय पर फैसला न करना ।

( तबरानी , मज्मज़्ज़वाइद )

( मुन्तख़ब अहादीस सफा 672 )

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.