हर रोज़ कब्र तीन दफा क्या ऐलान करती है जानिए

0
92
Know what every day the grave declares three times
grave
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Know what every day the grave declares three times

Declaration of the grave

Every day, three days, it declares –

A son of Adam and daughters!

I’m a scary house.

I have dark inside.

Are snakes and scorpions.

Is the only place to live.

Come in to me right now.

Read the (Quran)

a lot and keep praying for five times at the moment and read the prayer of Tahajjud.

By these good practices,

I will see the light of noor and the soil in me,

above and every side is soil.

Bring you good deeds and beds and bring two angels in front of me,

these two tickets will come to Babu and they will question you about Allah and Rasool and Deen and this ticket will ask from you.

That’s why you want Kalima Tayab –

LA ILAHA ILLALLAH Muhammadur Rasulullah

Please read more so that this is the answer to the questions of the Pharisees and that is the ticket.

(daqayaq-ul-Akhbar)

(Baghe Jannat Yaani Khudai Bagh, Safa no 301)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you


Hindi Translation

हर रोज़ तीन दफ़ा क़ब्र यह ऐलान करती है-

कब्र का ऐलान

हर रोज़ तीन दफ़ा क़ब्र यह ऐलान करती है-

ऐ आदम के बेटो और बेटियों!

मैं ख़ौफ़नाक घर हूँ।

मेरे अन्दर अँधेरा है।

साँप और बिच्छू हैं।

बिलकुल अकेली जगह है।

तुम अच्छे अमल करके मेरे अन्दर आओ।

क़ुरआन बहुत पढ़ा करो और पाँचो वक़्त की नमाज़ हमेशा वक़्त पर पढ़ते रहो और तहज्जुद की नमाज़ भी पढ़ा करो।

इन अच्छे अमलों की बरकत से मेरे अन्दर नूर की रोशनी देखोगे और मेरे अन्दर नीचे,

ऊपर और हर तरफ़ मिट्टी ही मिट्टी है।

तुम अच्छे कामों के बिस्तरे और बिछौने अपने साथ लाओ और मेरे अन्दर दो फ़रिश्ते मुनकर-नकीर,

यह दो टिकट बाबू आयेंगे और वह अल्लाह व रसूल के और दीन के बारे में तुमसे सवाल करेंगे और यह टिकट तुमसे मागेंगे।

इसलिए तुमको चाहिए कि कलिमा तैय्यब –

”लाइलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाह”

बहुत ज़्यादा पढ़ा करो कि फ़रिश्तो के सवालों का यही जवाब है और यही टिकट है।(दक़ायक़-उल-अख़बार)

अज़ीज़ो आलमे फ़ानी से जब अपना गुज़र होगा,
निकल इस मुल्क से ज़ेरे ज़मीं जंगल में घर होगा।

अँधेरा तंग वह घर है न तकिया है न बिस्तर है,
मकाने पुरख़तर है न आँगन और न दर होगा।

न हम जाने किसी को वां न हमको कोई जाने है,
न कुछ पहचान अल्लाह की कहो क्योंकर गुज़र होगा।

तौबा कर गुनाहों से और रख उम्मीदें बख़िशश की,
तेरे सर पर शफीहे आसियां खैरुलबशर होगा।

(बाग़े-जन्नत यानी ख़ुदाई बाग़,सफ़ा न० 301)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.