अपने मरहूम बुजुर्गों या माँ-बाप को ख़ैर-खैरात का सवाब पहुंचते रहो नहीं तो…

0
82
Allah ki narazgi musibar ka sabab hai
Makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

A dream of a Wali

A dream of a Wali:

एक वली का ख़्वाब

एक वली ने ख़्वाब में देखा कि-

क़ब्रिस्तान की सब क़ब्रें फट गयीं और मुर्दे बाहर निकले बैठे हैं।

उस सबके सामने रोशनी है और मेरे एक पड़ौसी के सामने अंधेरा है।

मैंने उससे पूछा कि तेरे सामने रोशनी क्यों नहीं?

उसने कहा कि इन लोगों की औलाद और अज़ीज़ो अक़ारब इनको ख़ैरात वग़ैरा का सवाब पहुँचाते रहते है

और ख़ुदा से इनकी बख़्शीश की दुआ करते रहते हैं, इसलिए इनके सामने रोशनी हैं।

और मेरा एक बेटा है, वह मुझको कोई सवाब नहीं पहुँचाता, इसलिए मैं आँधेरे में रहता हूँ।

बस मेरी आँख खुल गयी।

सुबह को मैंने उसके बेटे से खुवाब बयान कर दिया।

उसने बुरे कामों से तौबा की और अपने बाप को सवाब पहुँचाने का वादा किया।

कुछ दिनों के बाद फिर मैंने उसी तरह ख़्वाब देखा और उस पड़ौसी के सामने भी रोशनी देखी

तो उस पड़ौसी ने कहा कि ख़ुदा आपको जज़ा-ए-ख़ैर दे कि आपकी बरकत से मुझे राहत मिली और क़ब्र के अज़ाब से भी बच गया।

अब मेरा बेटा मेरे लिए दुआ भी करता है और ख़ैर-ख़ैरात का सवाब भी पहुँचता है।

(बाग़े-जन्नत यानी ख़ुदाई बाग़, सफ़ा न० 311)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


A dream of a Wali

A Wali saw in the dream that-

All the graves of the graveyard burst and the dead are out in the open.

There is light in front of everyone and my face is dark in front of a neighbor.

I asked him why not light in front of you?

He said that the descendants of these people and Azizo Akbar (relatives) are giving them the sawab

and they pray for God’s blessings, so there is light in front of them.

And I have a son, he does not give me any good, so I live in the dark.

Just opened my eyes In the morning, I made a statement with his son.

He bothered with bad things, and promised to bring his father light.

After a few days, I saw the dream and saw the light in front of that neighbor,

then the neighbor said that God should give you justice-e-Khair

that I have been relieved of your time and saved from the grave of the grave.

Now my son also pleases for me and the goodness of good and bad also reaches.

(Baghe-jannat i.e. Khudai Bagh, Safa no 311)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.