एक सुन्नत के बारे में खादिमों के साथ अच्छा बर्ताब करना

0
68
Treating good Behave with Servant
makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Treating good Behave with Servant

Treating good Behave with Servant

एक सुन्नत के बारे में खादिमों के साथ अच्छा बर्ताव करना

हज़रत अनस बिन मालिक रज़ि. बयान करते हैं के मैं ने रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की दस साल खिदमत की,

लेकिन आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने मुझे कभी “उफ़” तक नहीं कहा न ही किसी चीज़ के बारे में यह फ़र्माता के “तुम ने ऐसा क्यों किया? “और न ही ऐसा कहा के ऐसा क्यों नहीं किया ?”

(मुस्लिम: 6011)

(सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा सफ़ा न० 412)

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


About a Sunnah: Treating good Behave with Servant

Hazrat Anas bin Malik Razi I have said:

I did ten years service for Prophet (Sallallahu Alaihi Wasallam),

but Prophet (Sallallahu Alaihi Wasallam) never told me anything,

nor about any thing like “Why did you do this?” Why did not do such a thing? ”

(Muslim: 6011)

(Just five minutes of madarsa: Page No. 412)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.