कर्ज़दारों को मोहलत देना कैसा है क्या मोहलत दे देना सही है?

0
54
Giving Some More Delay for Borrowers
Makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Giving Some More Delay for Borrowers

एक अहेम की फ़ज़ीलत कर्ज़दारों को मोहलत देना

रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़र्माया:

“जिस शख्स को यह बात पसंद हो के अल्लाह तआला क़यामत के दिन परेशानियों से नजात दे,

तो वह फ़क़ीर और तंगदस्त लोगों को (क़र्ज़ की अदायगी में) मोहलत दे दे या माफ़ कर दे।”

(मुस्लिम: 4000, अन अबी क़तादा रज़ि.)

(सिर्फ पांच मिनट का मदरसा, सफ़ा न० 470)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


Giving Some More Delay for Borrowers

Prophet Mohammad (Sallalllahu Alaihi wasallam) said:

“If a person likes that Allah will save you from troubles on the Day of Judgment,

the he have to give up some delay to the poor and the afflicted (payable in debt) or forgive him.”

(Muslim: 4000, An Abi Qatada Razi.)

(Only five minutes of madarsa: Page No. 470)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.