पढ़िए लड़की की पैदाइश को बुरा समझने का कितना गुनाह है

0
124
Misunderstand the girl's birth Is Gunah in Islam
Boy With quran
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Misunderstand the girl’s birth Is Gunah in Islam

एक गुनाह के बारे में लड़की की पैदाइश को बुरा समझना

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है:

“जब उन में से किसी को बेटी पैदा होने की खबर दी जाती है, तो उस का चेहरा रंज की वजह से काला पड़ जाता है

और दिल ही दिल में घुटता रहता है

और जिस लड़की की पैदाइश की उस को खबर दी गई है उस की शर्मिंदगी की वजह से लोगों से छिपता फिरता है

के उस को ज़िल्लत गवारा कर के रहने दे या उस को मिटटी में छुपा दे वह बहुत ही बुरा फैसला करते हैं।”

(सुर-ए-नहल: 58 ता 59)

(सिर्फ पांच मिनट का मदरसा, सफ़ा न० 482)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


English Translation

Misunderstand the girl’s birth Is Gunah in Islam

In Qur’an, Allah Tala Says that:

“When any one of them is reported to be born a child,

then the face of his face becomes dark due to the pig

and the heart suffers in the heart

and the girl whose child is born The news has been told that he is hiding from people because of his embarrassment,

let him stay for the sake of the poor or hide him in the soil, he makes a very bad decision. ”

(Sur-e-Nahal: 58, 59)

(Only five minutes of Madarsa, no. 482)

Follow Us

Click here to like our Facebook page …

Thank you very much for all of you to like ISLAMIC PALACE. If you do not like it, then, to get rid of all the important issues related to this kind of oppression and Islam, definitely, please attach to this page the Islamic Palace, and send as many people as possible through share. thank you

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.