एक निहायत मुफीद मशवरा पढ़ें और शेयर करें

0
266
Ek niyat mufeed mashwara
makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Ek niyat mufeed mashwara

एक निहायत मुफीद मशवरा

महबूबे खुदा हज़रत मौहम्मद मुस्तफ़ा (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया हैं कि-

दीन का इल्म सीखना हर मुसलमान मर्द और औरत पर फ़र्ज़ हैं।

इस मुबारक हुक्म की वजह ज़ाहिर हैं कि जब दीन की बातों का इल्म न होगा,

इबादत और अताअत दोनों सही तरीक़े से अदा नहीं हो सकती।

इसलिए मुसलमान भाइयों और बहिनों की ख़िदमत में अर्ज़ हैं

कि आजकल दीन की बातों के सीखने का आसान तरीक़ा यह हैं

कि एक किताब बहिश्ती ज़ेवर के नाम से मशहूर हैं और बड़ी मौतबर हैं।

इसके ग्यारह हिस्से हैं। इसको हिन्दुस्तान के एक आलीशान बुज़ुर्ग आलिम ने उर्दू ज़ुबान में लिखा हैं

और हिन्दुस्तान के बड़े-बड़े बुज़ुर्ग आलिमों ने इसको पसन्द फ़रमाया हैं।

और यही इसके मौतबर होने की दलील हैं।

इसमें ज़रूरत के मुवाफ़िक़ पाकी, नापाकी, वज़ू, ग़ुस्ल,नमाज़, रोज़ा, हज, ज़कात लेन-देन, ख़रीद व फ़रोख़्त, मरना-जीना, कफ़न, दफ़न, मिलना-जुलना, रहना-सहना, माँ-बाप और औलाद वग़ैरा के हक़ूक़ और निकाह व तलाक़ वग़ैरा के तमाम मसायल मौजूद हैं,

जिसका सीखना हर मुसलमान मर्द-औरत पर फर्ज़ हैं।

इसको खरीदो, पढ़ो और सुनो।

इन्शाअल्लाह चन्द रोज़ में उर्दू के मौलवी और मौलवन बन जाओगे।

कर चुका हूँ मैं तो बस तबलीग़े दीं,
आगे इससे मुझको कुछ क़ुदरत नहीं।

ख़ालिक़े तासीर हैं परवरदिगार,
इसमें मुझको कुछ नहीं हैं अखतियार।

हाँ मगर तासीर दे इस में ख़ुदा,
दिल में तेरे हो असर इस वाज़ का।

(बाग़े-जन्नत यानी ख़ुदाई बाग़,सफ़ा न० 140)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.