पढिए, वाजिबात-ए-हज कौन-कौन से हैं

0
200
NABI SAW NE FARMAYA SHIFA DENE WALI SURAH KE BARE MEIN
makkah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Wajibat-E-Hajj Kon Kon Se hain

हज के वाजिबात यह हैं।

  1. मीक़ात से ऐहराम बांधना।
  2. सफा व मरवा के दर्मियान दौड़ना।
  3. सई को सफा से शुरू करना
  4. उज़्र न हो तो पैदल सई करना।
  5. दिन में वकूफ किया तो इतनी देर तक वक़ूफ़ करे कि आफताब डूब जाए।
  6. वक़ूफ़ में रात का कुछ जुज़ आ जाना।
  7. अरफ़ात से वापसी में इमाम की मुताबेअत करना।
  8. मुज़्दलिफ़ा में ठेहरना
  9. मग़रिब व ईशा की नमाज़ का वक़्त ईशा में मुज़्दलेफा में आकर पड़ना।
  10. तीनों जमरों पर दसवीं, ग्यारहवीं, बारहवीं तीनों दिन कंकरियां मरना। मसअल: वाजिब के तर्क से दम लाजिम आता है ख़्वाह कस्दन तर्क किया हो या सहवन खता के तौर पर हो।

(तारीख़े आलम, सफ़ा न० 310)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY