नमाज़ अल्लाह के ध्यान से पढ़ो वरना…

0
196
Is Tarah Ke Aadmi Ki Taraf Allah Taala Kabhi Nahi Dekhta
Namaz
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

namaz allah ke dhyan se padho warana

नमाज़ अल्लाह के ध्यान से पढ़ो वरना…

यह कितनी बेवकूफी हैं कि पांच वक़्त कि नमाज़ पर आख़िरत को समझा हुआ हैं कि आख़िरत बन गई।

हम पांच वक़्त कि नमाज़ पढ़ते हैं और जहाँ हमेशा रहना हैं वहां कि मेहनत सिर्फ़ दो घंटे।

अब तो दो घंटे भी लगे, दस मिनट में ईशा कि नमाज़ पढ़कर फ़ारिग़ हो जाते हैं जो सबसे लम्बी नमाज़ हैं।

परसों मैंने एक आदमी को मस्जिद में नमाज़ पढ़ते हुए देखा।

में अन्दर ही अन्दर खून के आंसू रो रहा था कि यह तो नमाज़ियों का हाल हैं।

वह कोई डेढ़ मिनट में चार रकअत पढ़कर फ़ारिग़ हो गया और कहाँ बस जन्नत हमारी हो गई और जहाँ रहना नहीं हैं

वहां सारा दिल, दिमाग़ भी लग रहा है दिल भी लग रहा है और जहाँ हमेशा रहना है

वहां पांच वक़्त कि नमाज़ और वह भी 95 फ़ीसद छूट चुकी है।

कितने हैं जिन्होंने आज तक सुबह का सवेरा नहीं देखा, सूरज कि किरनों से उठते हैं,

कभी उन्हें सुबह सज्दे की तौफ़ीक नसीब नहीं हुई,

कितने घर ऐसे हैं कि एक ज़बान से भी क़ुरआन के अल्फ़ाज़ अदा नहीं होते,

कितने घर हैं जो क़ुरआन कि तिलावत से महरूम हैं,

कितने घर हैं जो नमाज़ के सज्दे से महरूम हैं

(मौलाना तारिक़ जमील साहबत अंगेज़ बयानात, सफ़ा न० 194)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.