जानिए हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की नमाज़ के पढ़ने के बारे में, पढ़ कर शेयर जरूर करें

1
1474
Huzoor Sallallahu Alaihi Wasallam Ki Namaz Ke Bare Mein
Mohammad Sallallahu Alaihi Wasallam
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Huzoor Sallallahu Alaihi Wasallam Ki Namaz Ke Bare Mein

हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की नमाज़ के पढ़ने के बारे में

अल्लाह तआला का प्यार भरा खिताब हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से है कि आप रात के बड़े हिस्से में नमाज़े तहज्जुद पढ़ा करें।

“ऐ चादर में लिपटने वाले! रात का थोड़ा हिस्सा छोड़ कर बाक़ी रात में (इबादत के लिए) खड़े हो जाया करो।

रात का आधा हिस्सा या आधे से कुछ कम या उससे ज़्यादा और क़ुरान की तिलावत इतमिनान से साफ साफ किया करो।”

(सूरह मुज़्ज़म्मिल 1-4)

इसी तरह सूरह मुज़्ज़म्मिल की आखिरी आयत में अल्लाह तआला फरमाता है “(ऐ पैगम्बर!) तुम्हारा परवरदिगार जानता है

कि तुम दो तिहाई रात के क़रीब और कभी आधी रात और कभी एक तिहाई रात (तहज्जुद नमाज़ के लिए) खड़े होते हो और तुम्हारे साथियों (सहाबा-ए-किराम) में से भी एक जमाअत (ऐसा करती है)।”

इब्तिदाए इस्लाम में पांच नमाजों की फर्ज़ियत से पहले तक नमाज़े तहज्जुद हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) और तमाम मुसलमानों पर फर्ज़ थी,

चुनांचे आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और सहाबा-ए-किराम रात के एक खास हिस्से में नमाज़े तहज्जुद पढ़ा करते थे।

पांच नमाजों की फर्ज़ियत के बाद नमाज़े तहज्जुद की फर्ज़ियत तो खत्म हो गई मगर इसका इस्तिहबाब बाक़ी रहा,

यानी अल्लाह और उसके रसूल ने बार बार उम्मते मुस्लिमा को नमाज़े तहज्जुद पढ़ने की तरगीब दी,

चुनांचे क़ुरान करीम में फर्ज़ नमाज़ के बाद नमाज़े तहज्जुद का ही ज़िक्र बहुत मरतबा आया है।

उलमा की एक जमाअत की राय है

कि पांच नमाजों की फर्ज़ियत के बाद नमाज़े तहज्जुद आम मुसलमानों के लिए तो फर्ज़ न रही

लेकिन हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)  पर आखिरी वक़्त तक फर्ज़ रही।

हज़रत आइशा रज़ियल्लाहु अन्हा फरमाती हैं कि हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) रात को क़याम फरमाते,

यानी नमाज़े तहज्जुद अदा करते यहां तक कि आपके पांव मुबारक में वरम आ जाता।

(सही बुखारी)

ज़ाती तजरबात से मालूम होता है कि एक दो घंटे नमाज़ पढ़ने से पैरों में वरम नहीं आता है बल्कि रात के एक बड़े हिस्से में अल्लाह तआला के सामने खड़े होने,

तवील रुकू और सजदा करने की वजह से वरम आता है,

चुनांचे सूरह बक़रह और सूरह आले इमरान जैसी लम्बी लम्बी सूरतें आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)  एक रिकात में पढ़ा करते थे

और वह भी बहुत इतमिनान व सुकून के साथ।सूरह मुज़्ज़म्मिल की इब्तिदाई आयात,

आखिरी आयत, मज़कूरा और दूसरे अहादीस से बखूबी अंदाजा लगाया जा सकता है

कि आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम रात का दो तिहाई या आधा या एक तिहाई हिस्सा रोज़ाना नमाज़े तहज्जुद पढ़ा करते थे।

नमाज़े तहज्जुद के अलावा आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) पांच फर्ज़ नमाजें भी खुशू व खुज़ू के साथ अदा करते थे।

आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम सुनन व नवाफिल, नमाज़े इशराक़, नमाज़े चाशत,

तहिय्यतुल वज़ू और तहिय्यतुल मस्जिद का भी एहतेमाम फरमाते

और फिर खास मौक़ों पर नमाज़ ही के ज़रिया अल्लाह तआला से रुजू फरमाते।

सूरज गरहन या चांद गरहन होता तो मस्जिद तशरीफ ले जा कर नमाज़ में मशगूल हो जाते।

कोई परेशानी या तकलीफ पहुंचती तो मस्जिद का रुख़ करते।

सफर से वापसी होती तो पहले मस्जिद तशरीफ ले जा कर नमाज़ अदा करते

और आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) इतिमान व सुकून के साथ नमाज़ पढ़ा करते थे।

गरज़ ये कि हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) तक़रीबन 8 घंटे नमाज़ जैसी अजीमुशशान इबादत में गुज़ारते थे।

नमाज़ के मुतअल्लिक़ आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) मस्जिदे नबवी के मुअज़्ज़िन हज़रत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु से फरमाते “ऐ बिलाल! उठो,

नमाज़ का बन्दोबस्त करके हमारे दिल को चैन और आराम पहुचांओ।”

यानी नमाज़ से हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) को सुकून मिलता था।

हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की आखिरी वसीयत भी नमाज़ पढ़ने के मुतअल्लिक़ है।

अल्लाह तआला ने हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को रहमतुल लिल आलमीन बना कर भेजा है,

इसलिए आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपनी उम्मत की तकलीफों को बहुत फिक्र करते थे

मगर नमाज़ में सुस्ती व काहिली करने वाले के मुतअल्लिक़ हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के इरशादात बहुत सख्त हैं,

हत्ताकि इन इरशादात की रौशनी में उलमा की एक जमाअत की राय है कि जानबूझ कर नमाजें छोड़ने वाला काफिर है,

अगरचे जमहूर उलमा के मौक़िफ के मुताबिक़ ऐसा शख्स काफिर नहीं बल्कि फासिक़ व गुनाहगार है।

इंतिहाई अफसोस व फिक्र की बात है कि आज हम नबी रहमत का नाम लेने वाले

हुज़ूर अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)  की आंखों की ठंडक यानी नमाज़ पढ़ने के लिए भी तैयार नहीं हैं

जिस में आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी क़ीमती ज़िन्दगी का वाफिर हिस्सा लगाया।

नमाज़ पढ़िए इसके कि आप की नमाज़ पढ़ी जाए। अल्लाह तआला हम सबको नमाज़ का एहतेमाम करने वाला बनाए,

आमीन।

मुहम्मद नजीब क़ासमी

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

1 COMMENT

  1. My brother recommended I may like this blog.

    He was once totally right. This submit actually made my day.
    You cann’t believe just how much time I had spent for this information! Thanks!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.