मेरे दोस्तों एक ही रास्ता है अल्लाह के अज़ाब से बचने का

0
187
Mere doston Ek hee Raasta hai allah ke azab se bachne ka
Allah
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Mere doston Ek hee Raasta hai allah ke azab se bachne ka

मेरे दोस्तों एक ही रास्ता है अल्लाह के अज़ाब से बचने का

तिर्मिज़ी शरीफ में हज़रत अली रज़िअल्लाहु तआला अन्हु की रिवायत है जिसका मफ़हूम ये है के,

जब लोग हुकूमत के माल को नाजाइज़ तरीके से खाना शुरू करदे,,

अमानत हड़प कर जाएंगे,, जब ज़कात का इनकार कर जाएंगे,

ज़कात को टैक्स समझेंगे,,,

दीन दुनिया के लिए हासिल करेंगे,,

लोग बीविओं के फर्माबरदार बन जाएंगे, और माओं के नाफरमान हो जाएंगे,,

दोस्त के साथ अच्छा सुलूक करेंगे और बाप के साथ बुरा सुलूक करेंगे

क़बीले का सरदार फासिक और न फरमान होगा,

हुकूमत न अहल इंसानो के हाथ में होगी,,,

एक दुसरे को मतलब के लिए सलाम करेंगे,

मुहब्बत के लिए नहीं,,,

मस्जिदों में आवाज़े बुलंद करेंगे, शोर गुल होगा,,,

नाच गाने वालिया मोअज्जिज (इज़्ज़तदार) मोहतरम हो जाएंगी और नाच गाना आम होगा,

उम्मत का बदतरीन तबका उसका एजाज़ इकराम किया जायेगा,,

शराबे पी जाएंगी,, और मर्द रेशमी लिबास पहनने लगेंगे,

सोना पहनेंगे,, इस उम्मत के आखरी लोग पहले लोगो को बुरा भला कहेंगे,,,,

ये नाफरमानी जब उम्मत में पैदा होगी तो अब क्या होगा?

उस वक़्त उम्मत इंतज़ार करे सुर्ख आँधियो का सुरक हवाओं का,

ज़मीन में धस जाने का, और सूरतो के बदल जाने का,

आसमान से पत्थरो के बरस जाने का, और ऊपर निचे अज़ाबो के टूटने का, गिरने का,

जैसे तस्बीह के धागे टूटने से दाने गिरते है,,,

मेरे दोस्तों,, सोचो क्या आज ये सब नहीं हो रहा,,फिर किस चीज़ का इंतज़ार है हमे?

एक ही रास्ता है के हम खुद भी तौबा करले और पूरी उम्मत से तौबा करवाए,,

इसके बगैर कोई ताक़त अल्लाह तआला के अज़ाब से नहीं बचा सकती,,

अल्लाह हमारी हिफाज़त फरमाए, और हमे तौबा करने और तौबा करवाने की मेहनत में लगने की तौफ़ीक़ दे,,

Follow us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.