ज़रूर पढ़ें ये 8 खूबसूरत मसनून दुआएं

2
1071
Zaroor  Padhein Ye 8 Masnoon Duaein
8 Masnoon Duain
Islamic Palace App

Zaroor  Padhein Ye 8 Masnoon Duaein

ज़रूर पढ़ें ये 8 खूबसूरत मसनून दुआएं

मसनून दुआएं

दुआ मांगने से पहले नीचे दो बातों का ख़ास तौर से ध्यान रखा जाना बहुत ज़रूरी है।

1. जब दुआ मांगे तो पाक साफ़ हों और वुज़ू भी कर लें।

2. दुआ पूरी नेक नीयती व दिल की गहराई से मांगे।और अल्लाह पर पूरा भरोसा व यक़ीन रखें।दुआ मांगते वक़्त मुंह क़िबला की तरफ़ रखें।

3. दुआ से पहले अल्लाह की तारीफ़ करें और आगे पीछे दरूद शरीफ़ पढ़ें।

4. दुआ अपनी ज़ात से मांगने की शुरूआत करें।और फिर अपने मां बाप रिश्तेदारों और सारे मोमिनों के लिए भी मांगे।

5. दुआ हलाल व पाक चीज़ों ही की मांगी जाए।गुनाहों व बुरे कामों की दुआ न मांगे।


शाम के वक़्त की दुआ

اللّهُـمَّ بِكَ أَصْـبَحْنا وَبِكَ أَمْسَـينا ، وَبِكَ نَحْـيا وَبِكَ نَمُـوتُ وَإِلَـيْكَ المَصِيْر

अल्लाहु म बि-क अमसैना व बि-क अस्बहना व बि-का महया व बि-क नमूतु व इलैक- न्नुशूर

तर्जुमा- ऐ अल्लाह! हम तेरी क़ुदरत से शाम के वक़्त में दाख़िल हुए। और तेरी कुरदत से जीते व मरते हैं।और पीछे जी उठकर तेरी ही तरफ़ जाना है।

(तिर्मिज़ी)


सुबह की दुआ

بِسْمِ اللهِ الَّذِيْ لا يَضُرُّ مَعَ اسْمِهِ شَيْءٌ فِي الأَرْضِ وَلا فِي الْسَّمَاءِ وَهُوَ السَّمِيْعُ الْعَلِيْمُ

बिस्मिल्लाहिल्लज़ी ला यजुर्रु म अ इस्मिहि शैउन फ़िल अर्ज़ी वला फिस्समाए व हुवस्समी उल अलीम0

तर्जुमा- अल्लाह के नाम से हमने सुबह की जिसके नाम के साथ आसमान या ज़मीन में कोई चीज़ नुक़्सान नहीं पहुंचा सकती और वह सुन्ने वाला और जानने वाला है।

(तिर्मिज़ी)


सोते वक़्त की दुआ

اللَّهُمَّ قِنِي عَذَابَكَ يَوْمَ تَبْعَثُ عِبَادَكَ

अल्लाहुम्मा किनी अधबका यौमे तब’अथु’इबादका

तर्जुमा- हे अल्लाह, (1) मुझे अपनी सजा से बचाओ, जिस दिन तुमने अपने दासों को फिर से जीवित कर दिया।


घर में दाख़िल होने की दुआ

اللَّهُمَّ إِنِّي أَسْأَلُكَ خَيْرَ الْمَوْلِجِ وَخَيْرَ الْمَخْرَجِ بِسْمِ اللَّهِ وَلِجْنَا وَعَلَى اللَّهِ رَبِّنَا تَوَكَّلْنَا

अल्लहुम -म इन्नी असअलुका खैरल मवलजी व खैरल मख़रजी बिस्मिल्लाहे लज्ना बिस्मिल्लाहे ख़रज्ना व अलल्लाहे रबिबना तवक्कलना०

तर्जुमा-

ऐ अल्लाह! मैं तुझसे अच्छा दाख़िल होना और अच्छा बाहर जाना मांगता हूं। हम अल्लाह का नाम लेकर दाख़िल हुए और अल्लाह का नाम लेकर निकले। और हमने अल्लाह पर भरोसा किया जो हमारा रब है।

(मिश्कात)


खाना खाने की दुआ

بِسْمِ اللَّهِ وَعَلَى بَرَكَةِ اللَّهِ

बिस्मिल्लाहे व अला ब-र- – कतिल्लाहे

तर्जुमा- मैंने अल्लाह के नाम से और अल्लाह की बरकत पर खाना शुरू किया।

(मुस्तदरक)


खाने के बाद की दुआ

الْحَمْدُ لِلَّهِ الَّذِي أَطْعَمَنَا وَسَقَانَا وَجَعَلَنَا مِنَ الْمُسْلِمِينَ

अलहम्दु लिल्लाहिल्लज़ी अतअमना व सकाना व ज-अ-ल-ना मिनल मुस्लिमीन0

तर्जुमा-सारी तारीफ़ें अल्लाह के लिए जिसने हमें खिलाया और पिलाया और मुसलमान बनाया (इब्नुस्सिन्न)


जब नया कपड़ा पहने

الْحَمْدُ لِلَّهِ الَّذِي كَسَانِي مَا أُوَارِي بِهِ عَوْرَتِي وَأَتَجَمَّلُ بِهِ فِي حَيَاتِي

अलहम्दु लिल्लाहिल्लज़ी कसानी मा उवारी बिही अवरती व अ- -त-जम्मलु बिहि फ़ी हयाती0

तर्जुमा-सारी तारीफ़ें अल्लाह हि के लिए हैं। जिसने मुझे कपड़ा पहनाया। जिसमें मैं अपनी शर्म की चीज़ छिपाता हूं और अपनी ज़िन्दगी में इसके ज़रये खूबसूरती हासिल करता हूं।

(मिश्कात)


सफ़र की दुआ

سُبْحَانَ الَّذِي سَخَّرَ لَنَا هَذَا وَمَا كُنَّا لَهُ مُقْرِنِينَ وَإِنَّا إِلَى رَبِّنَا لَمُنْقَلِبُونَ

सुब्हानल्लजी सख्ख-र लना हाज़ा व मा कुन्ना लहू मुक़रिनीन0 व इन्ना इला रब्बिना ला मुन्क़लिबून0

तर्जुमा-अल्लाह पाक है। जिसने इसे हमारें कब्ज़े में दे दिया। और हम उसकी क़ुदरत के बिना इसे कब्ज़े में करने वाले न थे। और बिला शक हमें अपने रब की तरफ़ जाना है।

(तरकीबे नमाज़ सफ़ा न०109)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

2 COMMENTS

  1. great issues altogether, you simply received a brand new reader.

    What might you suggest in regards to your publish that you just made some days in the
    past? Any certain?

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.