बगैर इल्म के फतवे देने से बचा करो

0
76
HAZRAT MUHAMMAD (SALLALLAHU ALAIHI WASALLAM) KE ZYARAT K LYE WAZIFA
makkah
Islamic Palace App

Bagair Ilm Ke Fatwe Dene Se Bacha Karo

बगैर इल्म के फतवे देने से बचा करो

क़ौल-ए-मुबारक: जिसको बगैर इल्म फतवा दिया गया हो उसका गुनाह उस फतवा देने वाले पर है

और जिसने अपने भाई को मश्वरा दिया और यह जानता है की भलाई उसके गैर में है उसने खयानत की,

(अबू दावूद, इस्लामी अख़लाक़ आदाब, पेज न०, 294)

सबक़: लिहाजा बगैर इल्म के फतवा देने से बचा करो।

वरना मुमकिन है के लाइल्मी में फतवा देने वाला ही गुनाहगार हो जाये

और यह जानते हुए के उसका अपने भाई को दिया हुआ मश्वरा उसके भाई के भलाई के खिलाफ होगा

तो गोया ऐसा है के मश्वरा देने वाले ने अपने भाई की भलाई में खयानत की।

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY