एक लड़की का मरना और अज़ाबों में फँसना

0
224
Ek Ladki ka marna or azabon me fasna
Azab
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Ek Ladki ka marna or azabon me fasna

एक लड़की का मरना और अज़ाबों में फँसना

इमामउल अम्बिया हज़रत मौहम्मद मुस्तफ़ा (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की ख़िदमत में एक बुढ़िया आयी

और कहने लगी- या रसूल अल्लाह! मेरी एक लड़की अवनि ही में मर गयी थी।

बहुत दिन हो गये मैंने उस को कभी ख़्वाब में नहीं देखा।

मुझे कोई ऐसा अमल बतला दीजिए कि जिसकी बरकत से मैं लड़की को ख़्वाब में देख लूँ।

आपने फ़रमाया कि तुम जुमे की रात को चार रकत नफ़िल नमाज़ इस तरह पढ़ो

कि पहली रकत में अलहम्द के बाद सूराए वलशम्स एक बार और

दूसरी रकत में अलहम्द के बाद सूराए बल्लेल एक बार और तीसरी रकत में अलहम्द के

बाद सूराए वज़्ज़ुहा एक बार और चौथी रकत में अलहम्द के बाद सूराए अलमनशरा एक बार पढ़ो

और नमाज़ पढ़कर सजदे में जा कर अल्लाह तआला से दुआ माँगो कि या इलाही!

मेरी लड़की को ख़्वाब में दिखा दे और फिर सो जाना।

इन्शाअल्लाह तुम अपनी लड़की को ख़्वाब में देख लोगी।

बुढ़िया ने यह अमल किया और लड़की को ख़्वाब में देखा।

फिर वह सुबह को हुज़ूर (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की ख़िदमत में आयी

और रो-रो कर कहने लगी, या रसूल अल्लाह! आपकी बरकत से मैंने अपनी लड़की को ख़्वाब में देखा।

या रसूल अल्लाह! वह तो दोज़ख़ के बड़े-बड़े अज़ाबों में फँस रही है मैं उसके हल से निहायत बेचैन हूँ।

वह मेरी बेटी रो-रो कर कहती थी कि ऐ मेरी मेहरबान अम्मी जान,यह मेरा हल रहमते आलम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की

ख़िदमत में पहुँचा दो कि दुआ और बरकत से मैं इन अज़ाबों से निजात पाऊँ

और मेरे इस हाल की ख़बर औरतों को सुना दी जावे कि वह मेरी तरह अज़ाबों में न फँसे।

हुज़ूर ने फ़रमाया कि जो अज़ाब तुमने अपनी बेटी पर देखे है, बयान करो।

(बाग़े-जन्नत यानी खुदाई बाग़, सफ़ा न० 134)

Follow us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.