सबसे ज्यादा आज़माइश किन लोगो की हुई, जानिए हदीस पढ़ कर शेयर जरुर करें

0
108
Sabse Jyada Aazmaish Kin Logo Ki Hui
makkah
Islamic Palace App

Sabse Jyada Aazmaish Kin Logo Ki Hui

सबसे ज्यादा आज़माइश किन लोगो की हुई

मफ़हूम-ए-हदीस: हज़रात मुसाब बिन साद (रज़िअल्लाहु अन्हु) फरमाते हैं के मैं ने रसूलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से दरयाफ्त किया, या रसूलल्लाह! सब से ज़्यादह आज़माइश में किन लोगों को डाला जाता है।

आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इरशाद फ़रमाया: “अम्बिया अलैहिस सलाम को, फिर उसे जो अम्बिया से क़रीब तर हो , फिर उसे जो अम्बिया से क़रीब हो (यानी जो अम्बिया से जितना ज्यादा क़ुर्ब और ताल्लुक़ रखेगा उसे उतना ही ज्यादा आज़माया जायेगा)

आदमी को उस के दीन के मुताबिक़ आज़माया जाता है, पास अगर वो अपने दीन में पुख्ता हो तो उस की आज़माइश भी कड़ी होती है

और अगर उस के दीन में कमज़ोरी हो तो उसे उस के दीन के बक़दर ही आज़माइश में डाला जाता है,

आज़माइश बन्दे के साथ हमेशा रहती है यहाँ तक के उसे (गुनाहों से ऐसा साफ़) कर के छोड़ती है के वो ज़मीन पर ऐसी हालत में चलता फिरता है के उस पर कोई गुनाह बाक़ी नहीं रहता।

(जमीअत-तिर्मिज़ी, भाग, 2, हदीस 284)

English Translation:

Mafhoom-e-Hadith: Mus’ab bin Sa’d RadiyAllahu Anhu narrated from his father that a man said: “O Messenger of Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam)! Which of the people is tried most severely।

He (Sallallahu Alaihi Wasallam) said: “The Prophets, then those nearest to them, then those nearest to them।

A man is tried according to his religion; if he is firm in his religion, then his trials are more severe, and if he is frail in his religion, then he is tried according to the strength of his religion. The servant shall continue to be tried until he is left walking upon the earth?without any sins।

(जमीअत-तिर्मिज़ी: भाग, 4 किताब 10, हदीस 2398)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.