अल्लाह तआला ने सबसे पहले किस चीज़ को पैदा फ़रमाया

0
1039
ALLAH Ta'ala Ne Sabse Pehle Kis Cheez Ko Paida Farmaya
Allah
Islamic Palace App

ALLAH Ta’ala Ne Sabse Pehle Kis Cheez Ko Paida Farmaya

अल्लाह तआला ने सबसे पहले किस चीज़ को पैदा फ़रमाया

ये सवाल भी बड़ा एहम है की अल्लाह तआला ने सबसे पहले किस चीज़ को पैदा फ़रमाया क्यूंकि कुछ ऐसे जदीद (Latest) मुहक़्क़िक़ पैदा हो गए हैं जो खुद गुमराह हैं और अवाम को भी गुमराह करते हैं।

हज़रात जाबिर (रज़िअल्लाहो तआला अन्हो) ने नबीये करीम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से पूछा कि, अल्लाह तआला ने सबसे पहले कौन सी चीज़ पैदा फ़रमाई? तो आपने इरशाद फ़रमाया कि,
ए जाबिर! वो तेरे नाब का (यानी मेरा) नूर है

(الجزء المفقود من مصنف عبد الرزاق، حدیث رقم18)

ये हदीस आगे बहुत तवील है जिसमे तख़लीक़-ए-क़ायनात का तफ्सीली ज़िक्र है और इस हदीस को इमाम अब्दुर रज़्ज़ाक़ (211ھ) ने रिवायत किया है जिसमे नबीये करीम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) और इमाम अब्दुर रज़्ज़ाक़ के दरमियान तीन रावी हैं और तीनो अपने वक़्त के आलिम, फ़क़ीह, मुहद्दिस, हाफिज और मुत्तक़ी थे

बहुत से मुहद्दिसीन, मुफ़स्सिरीन, उलमा और औलिया सदियों से इस हदीस को अपनी किताबो में लिखते आये हैं जिन में से कुछ के नाम दर्ज जेल हैं

इमामुल औलिया, शेख अब्दुल क़ादिर जिलानी ने इस हदीस का ज़िक्र फ़रमाया

(سر الاسرار، ص12)

इमाम कास्तलेनि ने भी इस हदीस को अपनी किताब में लिखा

(المواھب اللدنیہ، ج1، ص71)

इमाम-ए-रब्बानी मुजद्दिदे अल्फे सनी ने

(مکتوبات دفتر سوم، مکتوبات نمبر100)

इमाम मुल्ला अली कारी ने

(شرح الشفاء، ج2، ص416)

शेख अब्दुल हके मुहद्दिसे देहलवी ने

(مدارج النبوت، ج2، باب اول)

इमाम ग़ज़ाली ने

(دقائق الاخبار)

इमाम बुरहानुद्दीन हलबी ने

(سیرت حلبیہ، ج1، ص50)

इमाम दयार बकरी ने

(تاریخ الخمیس، ج1، ص20)

इमाम शेख मुहम्मद मेहदी फास्मि ने

(مطالع المسرات، ص264)

इमाम आलसी बग़दादी ने

(تفسیر روح المعانی، ج17، ص105)

शाह वलीउल्लाह मुहद्दिसे देहलवी ने

(فیوض الحرمین، ص98)

शाह रफीउद्दीन मुहद्दिसे देहलवी ने

(الفیض بالحق، ص239)

इमाम इस्माईल हक़्क़ी ने

(تفسیر روح البیان، ج7، ص197)

इमाम शेख मुहम्मद अजलूनि ने

(کشف الخفاء، ص311)

शेख अहमद कैलाश हलबी ने

(حواشی کشف الخفاء)

हज़रात जाबिर (रज़िअल्लाहो तआला अन्हो) ने नबीये करीम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से पूछा कि, अल्लाह तआला ने सबसे पहले कौन सी चीज़ पैदा फ़रमाई? तो आपने इरशाद फ़रमाया कि,
ए जाबिर! वो तेरे नबी का (यानि मेरा) नूर है

(الجزء المفقود من مصنف عبد الرزاق، حدیث رقم18)

ये हदीस आगे बहुत तवील है जिसमे तख़लीक़-ए-क़ायनात का तफ्सीली ज़िक्र है और इस हदीस को इमाम अब्दुर रज़्ज़ाक़ (211ھ) ने रिवायत किया है जिसमे नबीये करीम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)

और इमाम अब्दुर रज़्ज़ाक़ के दरमियान तीन रावी हैं और तीनो अपने वक़्त के आलिम, फ़क़ीह, मुहद्दिस, हाफिज और मुत्तक़ी थे बहुत से मुहद्दिसीन, मुफ़स्सिरीन, उलमा और औलिया सदियों से इस हदीस को अपनी किताबो में लिखते आये हैं जिन में से कुछ के नाम दर्ज जेल हैं

शेख मुहम्मद जमालुद्दीन क़ासमी ने

(الفضل المبین، ص337)

इमाम इब्ने हजार हैशमी मक्की ने

(فتاوٰی ح یثیہ، ص51)

मौलाना मुहम्मद सालेह नक्शबंदी ने

(سوانح رسول مقبول، ص5)

अल्लामा अब्दुल घनी दमिश्क़ी ने

(الحدیقہ الندیہ، ج2، ص375)

सईद उस्मान मेरे मक्की ने

(الاسرار الربانیہ، ص9)

अल्लामा नूर बख्श मुजद्दिदी ने

(سیرت رسول عربی، باب اول)

मुफ़्ती इनायत अहमद काकोरवी ने

(تواریخ حبیب الہ، باب اول)

इमाम अहमद राजा बरेलवी ने

(صلات الصفا، ص38)

इमाम अब्दुर रेहमान जामी ने

(شواہد النبوہ، ص6)

शेख अबुल फ़ज़ल जफ़र हसनी ने

(نظم المتناثر، ص111)

सईद हुसैन शाह अलीपुरी ने

(الفضل الرسل، ص6)

हाजी इम्दादुल्लाह मुहाजिर मक्की ने

(راحت القلوب،)

सईद मुहम्मद अलवी मक्की ने

(الذخائر المحمدیہ، ص371)

शाह अहमद सईद मुजद्दिदी ने

(خیر البیان فی مولد سید الانس والجنان، ص45)

मज़े कि बात ये है कि कुछ वहाबी उलमा ने भी इस हदीस को नक़ल किया है
मौलाना ताहिर क़ासमी नबीरा-ए-क़ासिम ननोतवी ने

(عقائد الاسلام قاسمی)

मौलाना अशरफ अली थानवी ने

(نشر الطیب، باب اول)

मौलाना हुसैन अहमद मदनी ने

(الشہاب الثاقب، ص226)

मौलाना ज़करिया ने

(العطور المجموعہ، ص41)

अल्लाह रब्बुल आलमीन क़ुरआन-ए-करीम में फरमाता है,

“चाहते है की अल्लाह का नूर अपने मुँह से बुझा दे और अल्लाह न मानेगा मगर अपने नूर का पूरा करना। पड़े (चाहे) बुरा मने काफिर”

(अल क़ुरआन सौराह तौबा, पारा 10, आयत 32)

अल्लाह रब्बुल आलमीन क़ुरआन-ए-करीम में फरमाता है,

“ए लोगो! बेशक तुम्हारे पास अल्लाह कि तरफसे वजह दलील आयी। और हमने तुम्हारी तरफ रोशन नूर उतरा।”

(अल क़ुरआन सौराह अन निसा, पारा 6, आयत 174, तर्ज़ुमा: कंज़ुल ईमान)

मज़कूरा दलील से ये बात साबित हो गयी कि अल्लाह तआला ने सबसे पहले हमारे नबी (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के नूर को पैदा फ़रमाया

 

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.