जुम्मा की हदीस और ख़ुत्बे की अज़ान का जवाब

0
716
USKI 40 DIN KI NAMAZ QABOOL NAHI HONGI
namaz
Islamic Palace App

Jumma Ki Hadees Aur Khutbe Ki Azaan Ka Jawaab

जुम्मा की हदीस और ख़ुत्बे की अज़ान का जवाब

हदीस:

नबी-ए-पाक (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया:

मोमिन को मौत इस तरह आ जाती है, जिस तरह पेशानी पर पसीना आ जाता है

(मिश्कत शरीफ, जिल्द-1, सफ़ा न०-342)

हदीस:

नबी-ए-पाक (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया:

“हर जुम्मा फ़रिश्ते मस्जिद के दरवाज़ों पे खड़े रहते हैं और मस्जिद में आनेवालों के नाम लिखते हैं

(बुखारी शरीफ)

हदीस:

नबी-ए-पाक (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया:

“जो मुस्लमान जुम्मा के दिन या रात में इंतेक़ाल कर जाए तो अल्लाह उसे क़ब्र के फ़िटने से बचता है”

(तिर्मिज़ी शरीफ: हदीस न०:1074)

हदीस:

नबी-ए-पाक (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया:

जिसने अच्छी तरह वुज़ू किया फिर नमाज़-ए-जुम्मा को आया, खुत्बा सुना और चुप रहा उसकी मगफिरत हो जायेगी

(मुस्लिम शरीफ)

मसला:

जुम्मा के ख़ुत्बे के वक़्त खतीब के सामने अज़ान होती है उस अज़ान का जवाब या दुआ सिर्फ दिल में करे ज़ुबान से कुछ न कहे।

(फतवा-ए-रजविया)

अपनी नेक दुआओ में याद रखें

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.