ज़ुहर की 4 सुन्नतों का सवाब ऐसा ही है, जैसे तहज्जुद की 4 रकअत का : देखें वीडियो

0
121
TARAWEEH KE ZAROORI MASLE
namaz
Islamic Palace App

ZUHAR KI 4 SUNNATON KA SAWAAB AISA HI HAI, JAISE TAHAJJUD KI 4 RAKAAT KA

नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया: ज़ुहर की 4 सुन्नतों का सवाब ऐसा ही है,

जैसे तहज्जुद की 4 रकअत का, ज़ुहर के वक़्त अल्लाह की तमाम मकलूक उसकी हम्द ओ सना बयान करती है,

(जमे तिर्मिज़ी)

अपने अमल पर नाज़ वो भरोसा हरगिज़ ना करो, अल्लाह का फज़ल अमल पर मौक़ूफ़ नहीं है। (हज़रत अबुल हसन नूरी रहमतुल्लाह अलैहि)

अपनी लम्बी लम्बी उमीदो को काम करो और हिर्स को काम करो, इसलिए के तुम्हे अनक़रीब मरना है,

(हज़रत शेक अब्दुल क़दर जिलानी रज़िअल्लाहु तआला अन्हु)

नबी ए करीम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इरशाद फ़रमाया: जब लोग मजलिस ए ज़िकर में बैठ कर अल्लाह तआला का ज़िक्र कर के उठते हैं तो उन्हें कहा जाता है,

खड़े हो जाओ! अल्लाह ने तुम्हारे गुनाह बक़्श दिए हैं, तुम्हारे गुनाह नेकियों में बदल दिए गए हैं।

(शुबल ईमान,हदीस न० :695)

हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की किदमत में अर्ज़ किया गया आप उस शख्स के बारे में क्या इरशाद फरमाते हैं जो नेक अमल करता है और उस पर लोग उसकी तारीफ करते हैं?

हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया:

वो मोमिन को जल्द मिलने वाली खुशखबरी है।

(सहीह मुस्लिम, हदीस न०, 6891)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.