गुनाहो को माफ़ करने वाली नमाज़– सलातुल तस्बीह

3
1976
ASR SE PAHLE CHAR RAKAT PADHNE KI FAZILAT
namaz
Islamic Palace App

SHAB E QADR KI RAAT KO SALATUL TASBEEH NAMAZ PADHE

शबे क़द्र की रात को सलातुल तस्बीह नमाज़ पढ़े

गुनाहो को माफ़ करने वाली नमाज़– सलातुल तस्बीह

1 अगले सब गुनाह

2 पिछले सब गुनाह

3 पुराने गुनाह 

4 नए सब गुनाह

5 भूल से हुवे सब गुनाह

6 जान बुझ कर किये गए सब गुनाह

7 छोटे गुनाह

8 बड़े गुनाह

9 छुप कर किये गए गुनाह

10 सब के सामने किये गए गुनाह सब के सब गुनाह अल्लाह इस अमल से माफ़ फार्मा देगा,

फिर हज़रत मुहम्मद (ﷺ) ने पूरा नमाज़ का तरीका बताया, इस के बाद आप (ﷺ) ने फ़रमाया के चाचा अगर हो सके तो रोज़ाना ये नमाज़ पढ़ना वर्ना हफ्ता (week) में एक मर्तबा या महीने में एक मर्तबा या साल में या (काम से काम) ज़िन्दगी में एक बार ज़रूर पढ़ना

(रेफ, अबू दाऊद, इब्ने माजा)

सलातुल-तस्बीह कैसे पढ़ें?

नमाज़ का तरीका:

इस नमाज़ में हमको कुल 300 बार ये तस्बीह पढ़ना है سُبْحَان اللهِ وَ الْحَمْدُ لِلّهِ وَ لآ اِلهَ اِلّا اللّهُ وَ اللّهُ اَكْبَرُ (सुब्हान अल्लाहि वाल हम्दु वल्लाहु अकबर), ये कैसे और कहा पढ़ेंगे उसका तरीका देखिये।

ये नमाज़ नफील नमाज़ है, इस की नियत इस तरह से कीजिये” नियत करता हम में 4 रकत नमाज़ नफल,सलातुल तस्बीह की, वक़्त (जो भी हो कहिये), वास्ते अल्लाह के, मुँह मेरा काबा शरीफ की तरफ. अल्लाहु अकबर कहकर हाथ बाँध लीजिये, अब सना पढ़िए.

सना के बाद 15 बार ये तस्बीह पढ़िए سُبْحَان اللهِ وَ الْحَمْدُ لِلّهِ وَ لآ اِلهَ اِلّا اللّهُ وَ اللّهُ اَكْبَرُ (सुब्हान अल्लाहि वाल हम्दु लिल्लाहि वाले लाहा इल्लल्लाहु वल्लाहु अकबर), इसके बाद अल्हम्दु शरीफ और क़ुरान की एक सूरह पढ़ेंगे, फिर 10 बार यही तस्बीह पढ़ेंगे और अल्लाहु अकबर कहकर रुकू में चले जायेंगे, रुकू की तस्बीह पढ़ने के बाद 10 बार ऊपर बताई तस्बीह पढ़ेंगे,

फिर ‘समय अल्लाहुलेमन हमीदा कहकर रुकू से खड़े हो जायेंगे और 10 बार वही तस्बीह पढ़ेंगे, फिर अल्लाहु अकबर कहकर सजदा में चले जायेंगे, सजदा की तस्बीह पढनेके बाद फिर ऊपर बताई तस्बीह 10 बार पढ़ेंगे फिर पहले सजदे से अल्लाहु अकबर कह कर उठ जायेंगे, अब यहाँ 10

बार तस्बीह पढ़ेंगे, और अल्लाहु अकबर कह कर दूसरे सजदा में चले जायेंगे, दूसरे सजदा में भी सजदा की तस्बीह पढ़ने के बाद 10 बार वही तस्बीह पढ़ेंगे, फिर अल्लाहु अकबर कहते हुए दूसरी रकअत के लिए खड़े हो जायेंगे, अब अल्हम्दु शरीफ से पहले 15 बार तस्बीह पढ़ेंगे.

इसी तरह दूसरी रकअत पूरी करेंगे, दूसरी रकअत में दूसरे सजदा के बाद कैद में (अत्तहिय्यत) के लिए बैठ जाएंगे और अत्तहिय्यत पढ़ कर तीसरी रकअत के लिए खड़े हो जायेंगे, तीसरी-छोटी रकअत भी इसी तरह पूरी करेंगे।

इस तरह पूरी नमाज़ में कुल 300 बार तस्बीह हो जाएगी, अगर गलती से कही तस्बीह पढ़ना भूल गए, जैसे अगर रुकू में तस्बीह पढ़ना भूल गए तो रुकू से खड़े होकर 20 तस्बीह पढ़ लीजिये।

तस्बीह को याद रखने के लिए ऊँगली पर मत गिनिए, बल्कि ऐसा तरीका निकाल लिये ताकि देखने वाले को ये न लगे की गईं रहा है (यानी ऊँगली दबाकर या कोई और तरीका चुन सकते हैं।

नमाज़ आराम से पढ़िए, और तस्बीह के पुरे लफ्ज़ अदा कीजिये, जल्दी-जल्दी में लफ्ज़ गलत अदा हो सकते हैं, नमाज़ के बाद अल्लाह से अपने गुनाहो की माफ़ी मांगिये।

नोट: इस नमाज़ में जो गुनाहो की माफ़ी की बात है, उससे मतलब छोटे (sagira) गुनाह हैं, क्योंकि कबीरा (बड़े) गुनाह अल्लाह से बगैर माफ़ी मांगे माफ़ नहीं होते, और कुछ गुनाह ऐसे हैं, जब तक वो इन्सान हम को माफ़ न करे जिसके

साथ हमने कुछ बुरा किया है, तब तक अल्लाह भी माफ़ नहीं करता,

इसलिए नमाज़ के बाद अल्लाह से अपने कबीरा गुनाहो की रो-रो कर माफ़ी मांगिये और रोना न आये तो रोने जैसी आवाज़ और मुँह बनाइये, और उन गुनाहो को आगे न करने का पक्का इरादा करिये,

और जिसके साथ हमने कुछ बुरा कर दिया था उससे भी माफ़ी मांगिये

सो, दोस्तों अभी शबे बारात आ रही हे, बड़ी फ़ज़ीलत वाली रात हे, इस रात में ये नमाज़ ज़रूर पढ़ें,

और इस नमाज़ को रमजान में भी खास तौर से पहडिये, और जब भी टाइम मिले इसको पढ़ सकते हैं।

अल्लाह हम सब को ये नमाज़ पढ़ने की तौफ़ीक़ अता फरमाए आमीन

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

3 COMMENTS

  1. I’ve been browsing on-line more than three hours today,
    yet I by no means discovered any fascinating article like yours.
    It’s beautiful value sufficient for me. In my view, if all web owners and bloggers made just right content as you probably did, the internet will probably be a
    lot more useful than ever before.

  2. You really make it appear really easy along
    with your presentation however I in finding this matter to be really something which I
    feel I’d never understand. It kind of feels too complicated and extremely wide for me.
    I am looking ahead on your next put up, I’ll attempt
    to get the hold of it!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.