जुमा के दिन के कुछ ख़ास अमल जो हुज़ूर (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) का फरमान से

3
348
Jume Ke Din Ke Kuch Khaas Amal Jo Huzur SAW ka Farman Se
Jumma Mubarak
Islamic Palace App

Click here to Install Islamic Palace Android App Now

Jume Ke Din Ke Kuch Khaas Amal Jo Huzur SAW ka Farman Se

जुमा के दिन के कुछ ख़ास अमल जो हुज़ूर (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) का फरमान से

जो शख्स जुमा के दिन अपने वाल्देन या उनमे से किसी एक की क़ब्र की ज़ियारत करे तो
उसकी मगफिरत कर दी जाएगी और उसको फर्माबरदार लिखा जायेगा|

(कंज़ुल उम्माल, 17/468)

जो शख्स जुमा के दिन सौराह कहफ़ की तिलावत करेगा

उसके क़दम से लेकर आसमान की बुलंदी तक नूर हो जायेगा जो क़यामत के दिन रौशनी देगा,
और गुज़िश्ता जुमा से इस जुमा तक के उसके सब गुनाह माफ़ हो जायेंगे। (सगीरा गुनाह मुराद है)

(कंज़ुल उम्माल, 1/576)

जुमा के दिन ग़ुस्ल करना गुनाहो को बालो की जड़ो से सुनत कर निकाल देता है।

(कंज़ुल अमाल- 7/ 754)

हज़रात (माँ) आइशा राज़ी अल्लाहु ताला अन्हा बयान करती है के

रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के पास दो कपड़े थे
जिसे आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) जुमा के दिन पहनते थे
फिर जब वापस तशरीफ़ लाते तो उसको लपेट कर रख देते थे.

(अल मुत्तलिबुल आलिया / 746)

जुमा के दिन नाख़ून काटना शिफा का बाइस है और बीमारी को दूर भगाता है।

(कंज़ुल अाम्माल 17258)

जिस ने जुमा के दिन नाख़ून काटे

वो आइन्दाह जुम्मा तक न’गवार हालत से महफूज़ रखा जाएगा.

(कंज़ुल अाम्माल / 17241)

जिस शख्स ने जुमा की नमाज़ से फारिग होकर

“सुभानल्लाहिल अज़ीमी व बिहम्दिहि”
100 मर्तबा पढ़ा तो अल्लाह ता’आला उसके एक लाख गुनाह माफ़ फार्मा देंगे
और उसके वाल्देन के 24 हज़ार गुनाह माफ़ फार्मा देंगे,

(गवाह इब्नुल सुन्नी फि अमल अल यौम, 164)

जो शख्स जुमा की नमाज़ के बाद’

“कुल हुवल्लाहु अहद,
कुल अ’उजु बिरब्बिल फलक,
कुल अ’उजु बिरब्बिन नास,”
सात सात मर्तबा पढ़े तो अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त आ’इन्दा जुमा तक बुराई से पनाह में रखेंगे, ”

(इब्ने सुन्नी फि अमलाल यौम वाल लेलाह, 1/145)

अज़ान-इ-जुमा के बाद दुनियावी काम छोर देना

क़ुरान में अल्लाह ता’अला फरमाते है

“आय ईमान वालो ! जुमा क दिन जुम्मा क लिए जुमा की नमाज़ के लिए अज़ान दी जाये,
तो सब के सब अल्लाह की तरफ दौड़ पदों और खरीद वह फरोख्त छाए दो !
यह तुम्हारे लिए बेहतर है, अगर तुम जानते हो”!

(रिफरेन्स-सौराह जुमा: Para 28)

खुलासा:- जुमा की अज़ान सुनने के बाद फ़ौरन जुमा के लिए तैयारी करना और सारे दुनयावी काम काज छोर देना ज़रूरी है।

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

3 COMMENTS

  1. Hi would you mind stating which blog platform you’re using?
    I’m looking to start my own blog soon but I’m having a hard time selecting between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.

    The reason I ask is because your layout seems different then most blogs and I’m looking for
    something completely unique. P.S My apologies for being off-topic but I had
    to ask!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.