नेकियों के वसीले से दुआ

0
114
Har Aafat, musibat ya Mushkil Se bachne Ki dua – Surah faalaq
dua
Islamic Palace App

Nekiyo Ke Waseele Se Dua

नेकियों के वसीले से दुआ

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम!

“व-इज़त यर्फु इब्रहीमु अल-कवायद मिना अल-बेटी व-इस्माईलु रब्बना तक़ब्बल मिन्ना इनका अन्तस समीओल अलीम”

“وَإِذْ يَرْفَعُ إِبْرَاهِيمُ الْقَوَاعِدَ مِنَ الْبَيْتِ وَإِسْمَاعِيلُ رَبَّنَا تَقَبَّلْ مِنَّا إِنَّكَ أَنتَ السَّمِيعُ الْعَلِيمُ”

तर्जुमा: और वो वक़्त याद करो जब इब्राहिम और इस्माईल (अलैहि सलातो सलाम) खाना-ए-काबा की बुनियादें बुलंद कर रहे थे (और दुआ) मांगते जाते थे की- “ऐ हमारे परवरदिगार! हमारी ये खिदमत क़बूल कर बेशक तू ही दुआ का सुनने वाला और उसका जानने वाला है”.

And (Mention) When Abraham Was Raising The Foundations of The House and (With Him) Ishmael, (Sayin)], “Our Lord, Accept (This) From us. Indeed You are The Hearing, The Knowing.

(Surah-Al-Baqrah, Aayat-127)

सबक़: अपने नेक अमल के वसीले अपने रब को रज़ि करने के लिए क़ुरआन-ए-करीम में हमारी रहनुमाई के लिए बेहतरीन दुआ का तज़किरा किया

रब्बुल इज़्ज़त ने, लिहाजा हमे चाहिए के जो भी नेक अमल करें उसके साथ ये दुआ भी ज़रूर करें.

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.