शादी के लिए अमल: जिन भाई बहन को रिश्ते में परेशानी हो रही है वो इस वज़ीफ़े को पढ़ें

0
341
Jin bhi bhai Bahen ko Rishte Mein Pareshani ho rahi HAI
Nikah
Islamic Palace App

Shadi ke Liye Amal

Jin bhi bhai Bahen ko Rishte Mein Pareshani ho rahi HAI Wo Is Wazife ko padhen

शादी के लिए अमल:

जिन भाई बहन को रिश्ते में परेशानी हो रही है वो इस वज़ीफ़े को पढ़ें

शादी के लिए वज़ीफ़ा जिन भी भाई बहन को रिश्ते में परेशानी हो रही है

वो इस वज़ीफ़े को पढ़ें इन्शा अल्लाह जल्द ही उनकी शादी हो जाएगी निकाह की जो भी परेशानी है वो दूर हो जाएगी

अल्लाह आपको कामयाबी देगा इस अमल को करते वक़्त अल्लाह की ज़ात पर पूरा भरोसा होना ज़रूरी है

क्यूंकि सब कुछ करने वाला है ये वज़ीफ़ा करने से पहले आपको कुछ खास बातों का ख्याल रखना ज़रूरी है

ये भी पढ़ें

शौहर-बीवी-में-मोहब्बत-के-लिए-एक-क़ुरानी-अमल

बुराई-से-छुटकारे-के-लिए-एक अमल

अमल के शराइत

जिस भी दिन आपको वज़ीफ़ा शुरू करना है कर सकते हैं

5 वक़्त की नमाज़ की पावंदी करें और सब कामों से फारिग हो कर रात को ताज़ा वुज़ू बनाये

और 11 मर्तबा दुरूदे पाक पढ़ें जो भी याद हो फिर 41 बार सौराह इखलास यानी कुल्होवल्लाह शरीफ जो सबको याद होती है

जो नमाज़ में पढ़ी जाती है

सौराह इखलास

بسم الله الرحمن الرحيم قُلْ هُوَ اللَّهُ أَحَدٌ اللَّهُ الصَّمَدُ لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ وَلَمْ يَكُن لَّهُ كُفُوًا أَحَدٌ

आखिर में फिर से 11 मर्तबा दुरूद शरीफ पढ़िए और फिर उसके बाद सिर्फ शादी के लिए ही दुआ करें

किसी खास शख्स के लिए कर रहे हों तो उनके लिए कीजिये उनके

माँ का नाम लेकर और नाम नहीं मालूम तो हव्वा बोल सकते हैं

और अगर किसी खास शख्स के लिए नहीं कर रहे है

तो अल्लाह तआला से आपकी क़िस्मत में कोई बेहतर लड़के,लड़की के लिए दुआ कीजिये

इस वज़ीफ़े की मुद्दत 90 दिन तक है रोज़ाना पढ़ें बिना नागा किए

औरतें हैज़ (mc) के दिनों में छोड़ सकती हैं लेकिन उनको भी 90 दिन पूरा करना है

ये भी पढ़ें

जादू-का-असर-ख़तम-करने-का-अमल

बाद’हाज़मी-को-दूर-करने-का-अमल

मुसीबत को दूर करने का अमल

याद रहे अमल करने के दिनों में भी

मांगनी या शादी भी होजाए तब भी आपको ये वज़ीफ़ा पूरा करना है 90 दिन तक

अल्लाह आपकी मुरादें पूरी फरमाए आमीन

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.