दुरूद ए इब्राहिम की फ़ज़ीलत और बरकत

0
2263
Quraani ayaat aur ahadeese Nabweeyyah Ke Application Mobile Se (delete) karne ka huqm hai?
makka
Islamic Palace App

DUROOD E IBHRAHIM KI FAZILAT OR BARAKAT

दुरूद ए इब्राहिम की फ़ज़ीलत और बरकत

अगर लड़के या लड़की बन्दिश की वजह से तय न होता हो तो दुरूद-ए-इब्राहीमी 111 बार नमाज़-ए-फ़जर के बाद 7 रोज़ तक पढ़ें अल्लाह

तआला पर्दा ग़ैब से मदद फरमाए गए,

दुरूद-ए-इब्राहीमी का पढ़ना बन्दिश के तोर के लिए अक्सीर है अपने नफ़्स को काबू करने और दिल को शैतानी ख़यालात से पाक करने की

ग़र्ज़ से हर नमाज़ के बाद दुरूद-ए-इब्राहीमी का विरद करें,

इंशा अल्लाह नफ़्स मग़लूब होगा और तबियत नैक कामो की तरफ रग़बत करे गई, (इन्शाअल्लाह)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.