झूठी गवाही बहुत बड़ा गुनाह है

4
168
JOB YA KAROBAR KE LIYE AMAL -अगर किसी शख्स के पास कोई रोज़गार न हो , कोई नौकरी या कारोबार न हो ,वो बेरोज़गार हो रोज़ी की तलाश करता हो और न मिलती हो तो -. - वो शख्स 41 दिन तक रोज़ाना बाद नमाज़े फजर या बाद नमाज़े ईशा 1 टाइम फिक्स करके ये दुआ 101 बार पढ़े بِسْمِ اللّٰهِ ارَّحْمٰنِ ارَّحِیْمِ ● یَا مُسَبِّبَ الْاَسْبَابْ وَ یَا مُفَتِّحَ الْاَبْوَابْ وَ یَا مُقَلِّبَ الْقُلُوْبَ وَ یَا خَالِقَ الْاَبْصَارْ وَ یَا دَلِیْلِ الْمُتَحَیِّرِنَ اَرْشِدْنِی وَ یَا غَیَاثَ الْمُسْتَغِیْثِیْنَ اَغِثْنِی تَوَکّلْتُ عَلَیْکَ یَا رَبِّ اُفَوِّضُ اَمْرِیْ اِلَیْكَ لَا حَولَ وَلَا قُوَّتَ اِلَّا بِاللّٰهِ الْعَلِيِّ الْعَظِیْمِ بِحَقِّ اِیَّاكَ نَعْبُدُ وَ اِیَّاكَ نَسْتَعِیْنُ ● (बिस्मिल्ला हिर्रहमा निर्रहीम ,या मुसब्बीबाल असबाब व या मुफततीहल अबवाब व या मुक़ल्लिबाल क़ुलूब व या ख़ालिकाल अबसर व या दलीलील मुतहय्यिरिं ारशीदनि व या गयसाल मुस्तगीसिन आगिसनी तवक्कलतु अलैक या रबी ोोफ़व्विदु अमरि इलैक ला हॉल वला क़ुव्वत िल्ला बिल्लाहिल एलिय्यिल अज़ीमी बी हक्की िय्याक न'अबदु व िय्याक नस्तईन) ये दुआ पढ़ कर दुआ करे -. - इंशा अल्लाह इस अमल की बरकत से जल्दी ही कोई जॉब या कारोबार क असबाब बन जायेंगे - इस अमल में अव्वल आखिर 99 बार दुरूदे पाक पढ़े
Quran
Islamic Palace App

Jhuti Gawahi Bahut Bada Gunah Hai

झूठी गवाही बहुत बड़ा गुनाह है

झूठी गवाही से बचो
इल्जाम लगाना छोड़ दो

झूठी गवाही देना और किसी पर इल्ज़ाम लगाना बहुत ही बुरा काम है,

सरकारे मदीना* صلی اللہ علیہ وسلم के इर्शादात पढीये,
और अपनी आख़िरत की फ़िक्र करते हुये इस कबीरा गुनाह से खुद बचें और दूसरों को बचायें,

झूठे गवाह के क़दम हटने भी न पायेंगे कि अल्लाह तआला उसके लिये जहन्नम वाजिब कर देगा*

(इब्ने माजा, हदीस नं, 2373)

Also Read : जानिए अज़ान की इब्तिदा कबसे शुरू हुई और पहली अज़ान किसने दी थी

जिस ने किसी मुसलमान को ज़लील करने की ग़र्ज़ से उस पर इल्ज़ाम लगाया तो
अल्लाह तआला जहन्नम के पुल पर उसे रोक लेगा,
यहां तक कि अपने कहने के मुताबिक़ वो अज़ाब पा ले*

(अबू दाऊद, हदीस नं 4883)

जो किसी मुसलमान पर ऐसी चीज़ का इल्ज़ाम लगाये
जिस के बारे में वो ख़ुद भी नहीं जानता हो,
तो अल्लाह तआला उसे (जहन्नमियों के ख़ून व पीप जमा होने की जगह)
“रदग़तुल ख़बाल”* *में उस वक़्त तक रखेगा जब तक कि अपने इल्ज़ाम के मुताबिक़ अज़ाब पा न ले

(मुसन्निफ अब्दुर्रज़्ज़ाक़, हदीस नं 20905)

Also Read : सूरज निकलने के बाद अज़ान देना कैसा है।

Post ko Share Zaroor Karen

For More Msgs Click This Link
www.islamicpalace.in

बराये करम इस पैग़ाम को शेयर कीजिये अल्लाह आपको इसका अजर-ए-अज़ीम ज़रूर देगा
आमीन

►जज़ाकअल्लाह खैरन◄

PLEASE SHARE

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

4 COMMENTS

  1. I loved as much as you will receive carried out right here.
    The sketch is tasteful, your authored material stylish. nonetheless,
    you command get bought an impatience over that you wish be delivering the following.
    unwell unquestionably come further formerly again as exactly the same nearly a lot often inside case you shield this hike.

  2. Sweet blog! I found it while browsing on Yahoo News. Do you have
    any tips on how to get listed in Yahoo News? I’ve been trying for a while but I never seem to get there!
    Thanks

  3. Heya i’m for the primary time here. I found this board and
    I in finding It really useful & it helped me out much.
    I am hoping to give something back and help others such as you
    helped me.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.