हज़रत दावूद की मौत पर लोगोँ का दुख, जानिए

0
121
HAZRAT DAWOOD KI DEATH PER LOGOUN KA DUKH:
Quran
Islamic Palace App

HAZRAT DAWOOD KI DEATH PER LOGOUN KA DUKH:

हज़रत दावूद की मौत पर लोगोँ का दुख:

अवाम-उल-नास (लोग) हज़रात दावूद (A.S) के जनाज़े में शरीक हुए और धुप में बैठ गए.

सिर्फ 40,000 उलमा बानी इस्राएल थे. जनरल पब्लिक उस के इलावा थे.

बानी इस्राएल में हज़रात मुसाओ हारुन की वफ़ात के बाद अब तक इस क़दर दुःख और ग़म किसi की वफ़ात पर न हुआ था.

फिर लोगोँ को गर्मी और धुप ने परेशां किए ताऊ हज़रात सुलेमान से शिक्वाह किया के कोई गर्मी से बचाओ की तदबीर करें.

तो हज़रात सुलेमान निकले और बर्ड्स को आवाज़ दी तो बिरदस जमा हो गए.

फिर आप ने उन को लोगोँ पर साया करने का हुक्म फार्म आया.

तो तमाम बिरदस लोगोँ पर साया फगन हो गए.

और लोग एक दूसरे से चिमटे बैठे थे (tightly packed with eachother) और सूरत कुछ ऐसी हो गए थी के बिरदस ऊपर थे जिस से हवा रुक गए.

तो बानी इस्राएल ने फिर शिकवा क्या तो सुलेमान (A.s) ने बिरदस को हुक्म फ़रमाया के हवा के रुख (direction) से चाऊँ साया न करें,

बुल्के सूरज की तरफ साया डालें. तो बिरदस ने फ़ौरन हुक्म की तामील की. और फिर तमाम लोग साये और हवा में हो गए.

तो ये पहली निशानी और दलील थी जो लोगोँ ने हज़रात सुलेमान (A.S) की बादशाही के मुतालिक देखी

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY