मीक़ात पर एहराम बांधना

0
167
Meeqat Par Ahram Bandhna
Meeqat Par Ahram Bandhna
Islamic Palace App

Meeqat Par Ahram Bandhna

मीक़ात पर एहराम बांधना

मीक़ात उन मक़ामात को कहते है, जहाँ से मक्का शरीफ़ में जाने के वास्ते एहराम बांधते है।

हिन्दुंस्तान से बजरिये हवाई जहाज़ सफर की सूरत में सवार होते वक़्त एहराम बांध लें,

इसलिए की यलमूलम रास्ते में पड़ता है नियत तो वहाँ से होनी चाहिए,

लेकिन कभी-कभी मालूम नहीं हो पता इसलिए कुछ दूर जहाज़ जाने क बाद नियत कर लें

और बेहरी जहाज़ से जाने वाले जद्दह से तक़रीबन 45 मिल पहले ही यलमूलम के मक़ाम पर जहाज़ ही में एहराम बांध लें

उस वक़्त जहाज़  में लाउडस्पीकर से एलान भी किया जाता है,

उस वक़्त आप सिर्फ़ उमरह का एहराम बंधे।

(उमरह का आसान तरीका, सफ़ा न० 9)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY