रोज़े की नियत,

2
1641
Roza Kholne aur Rakhne ki Dua
roze ki niyat
Islamic Palace App

सवालात ए रमजान

Roze Ki Niyat

रोज़े की नियत,

बेहतर ये है क रमजान के रोज़े की नियत सुबह सादिक़ से पहले कर ली जाये

अगर सुबह सादिक़ से पहले रोज़ा रखने का इरादा नहीं था सुबह सादिक़ के बाद इरादा हुआ क रोज़ा रख ही लेना चाहिए

तो अगर सुबह सादिक़ के बाद कुछ खाया पिया नहीं तो नियत सादिक़ के बाद करना सही है,

अगर कुछ खाया पिया नाह हो तो दोपहर से एक घंटा पहले तक रमजान के रोज़े की नियत कर सकते है,

रमजान के रोज़े में बस इतनी नियत कर लेना काफी है

क आज मेरा रोज़ा है या रात को नियत करना क सुबह रोज़ा रखना है,

रोज़े के लिए सेहरी खाना बा-बरकत है

क इससे दिन भर क़ुव्वत रहती है, मगर ये रोज़ा के सही होने के लिए शर्त नहीं,

अगर किसी को सेहरी खाने का मौक़ा नहीं मिला और सेहरी खाय बिना रोज़ा रख लिया

{और नियत कर लिया} तो भी सही है,

रमजान का रोज़ा रख कर तोड़ दिया तो क़ज़ा और कफ़्फ़ारा दोनों लाज़िम होंगे,

(आपके मसाइल और उनका हाल,262/3)

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

2 COMMENTS

  1. Thank you for any other magnificent post. Where else could
    anybody get that kind of information in such a perfect way of writing?
    I’ve a presentation subsequent week, and I am on the search for such
    info.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.