हूज़ूर ने शब-ए-क़द्र की अहमियत बयान करते हुए फ़रमाया

0
1332
huzoor ne Shab-e-Qadr ki ahmiyat bayan karte hue farmaya
kaba
Islamic Palace App

Huzoor ne Shab-e-Qadr ki ahmiyat bayan karte hue farmaya

हूज़ूर ने शब-ए-क़द्र की अहमियत बयान करते हुए फ़रमाया-

. माह-ए-रमज़ान मे एक रात ऐसी है जो हज़ार महीनों से बेहतर है

जो इस रात से महरूम रहा सारी खेर से महरूम रहा

.जब शब-ए-क़द्र आती है

तो जिब्राइल अलैहिस्सलाम फरिश्तों के झुरमुट में ज़मीन पर उतरते है

और उस शख्स के लिए दुआ-ए-रहमत करते हैं

जो खड़ा या बैठा अल्लाह की इबादत कर रहा हो।

.हज़रात जिब्राइल अलैहिस्सलाम और फ़रिश्ते उस शब में इबादत करने वालो से मुसाफा करते है

और उनकी दुआओं पर आमीन कहते हैं, यहाँ तक कि सुबह हो जाती है।

(रमज़ानुल मुबारक, फ़साइल और मसाइल, सफ़ा न० 60 )

Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace  को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

LEAVE A REPLY